Breaking News
July 1, 2019 - डाक विभाग डिजिटल टेक्नालाजी के साथ कस्टमर-फ्रेंडली सेवाओं का  बढ़ा रहा दायरा – डाक निदेशक के के यादव
July 1, 2019 - बिहार के महादलितो को बंधुआगिरी से मिली मुक्ति, न्याय की आस में जंतर मंतर पर धरना
July 1, 2019 - अंतराष्ट्रीय मध्यम एवं लघु उद्योग दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रिय कवि सम्मलेन’- न्यूज़ इंक
July 1, 2019 - डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
May 31, 2019 - नरेंद्र मोदी ने किसको सौंपा कौन सा मंत्रालय ?
May 31, 2019 - राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य व साउथ ईस्ट एशिया में अग्रणी रहने पर राजस्थान को  मिला अवार्ड
May 3, 2019 - इरकॉन ने मनाया 43वां वार्षिक दिवस
मालगाड़ियों की भी समय सारिणी बनाएगी भारतीय रेल

मालगाड़ियों की भी समय सारिणी बनाएगी भारतीय रेल

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे मालगाड़ियों के आवागमन की भी समय सारिणी बनाएगी ताकि आपूर्ति में सुधार करते हुए ढुलाई के लिए अधिक से अधिक माल आकर्षित किया जा सके। रेलवे पहली बार इस तरह की समय सारिणी बनाने जा रही है। मौजूदा व्यवस्था के तहत देश भर में व्यस्त रेललाइनों पर मालगाड़ियों के बजाय यात्री रेलगाड़ियों को वरीयता दी जाती है। यही कारण है कि सामान की आपूर्ति को लेकर अनिश्चिता बनी रहती है और इसमें देरी भी होती है। डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर कॉरपोरेशन (डीएफसीसी) के प्रबंध निदेशक आदेश शर्मा ने कहा कि रेल लाइनों पर भीड़ भाड़ के कारण मालगाड़ियों को लूप लाइनों पर रखा जाता है ताकि यात्री गाड़ियों को रास्ता दिया जा सके। उल्लेखनीय है कि डीएफसीसी एक विशेष कंपनी है जिसकी स्थापना देश में माल परिवहन के समर्पितत गलियारों के निर्माण, रखरखाव व परिचालन के लिए की गई। डीएफसीसी इस समय विशेष तौर पर माल के परिवहन के लिये दो कारीडोर वेस्टर्न डीएफसी व ईस्टर्न डीएफसी बना रही है। शर्मा ने कहा, ‘जब ये दो गलियारे पूरे हो जाएंगे तो हम माल परिवहन को सड़क मार्ग से रेल मार्ग पर लाने में सक्षम होंगे। इसके साथ ही हम माल गाड़ियों के लिए समयसारिणी भी लाएंगे।’ एक समय था जब रेलवे कुल माल परिवहन में से 80 प्रतिशत ढुलाई करती थी लेकिन समय के साथ उसका यह हिस्सा कम होकर 36 प्रतिशत रह गया। माल का परिवहन सड़क मार्ग में बढ़ता चला गया।

Related Articles