Breaking News
July 1, 2019 - डाक विभाग डिजिटल टेक्नालाजी के साथ कस्टमर-फ्रेंडली सेवाओं का  बढ़ा रहा दायरा – डाक निदेशक के के यादव
July 1, 2019 - बिहार के महादलितो को बंधुआगिरी से मिली मुक्ति, न्याय की आस में जंतर मंतर पर धरना
July 1, 2019 - अंतराष्ट्रीय मध्यम एवं लघु उद्योग दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रिय कवि सम्मलेन’- न्यूज़ इंक
July 1, 2019 - डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
May 31, 2019 - नरेंद्र मोदी ने किसको सौंपा कौन सा मंत्रालय ?
May 31, 2019 - राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य व साउथ ईस्ट एशिया में अग्रणी रहने पर राजस्थान को  मिला अवार्ड
May 3, 2019 - इरकॉन ने मनाया 43वां वार्षिक दिवस
रेट कटौती का गिफ्ट देंगे रघुराम राजन?

रेट कटौती का गिफ्ट देंगे रघुराम राजन?

आज आरबीआई की मॉनिटरी पॉलिसी की रिव्यू मीटिंग होगी। इस में आरबीआई के गवर्नर ब्याज दरों में कटौती का तोहफा देंगे या नहीं, इस बात को लेकर अलग-अलग राय पाई जा रही है। कुछ लोगों का मानना है कि भले ही थोक महंगाई दर में कमी हुई है लेकिन खुदरा महंगाई दर में गिरावट नहीं होने से रेट कट की संभावना बहुत कम है। इसके लिए तर्क यह दिया जा रहा है कि आरबीआई रेट कट के लिए खुदरा महंगाई दर को ही आधार बनाती है।

खुदरा मुद्रास्फीति जून में 5.4 प्रतिशत के आठ महीने के उच्च स्तर पर पहुंच गई जबकि इसी माह में थोक मूल्य आधारित मुद्रास्फीति शून्य से 2.4 प्रतिशत नीचे रही। आरबीआई नीतिगत दर पर फैसला करने के लिए मुख्य तौर पर उपभोक्ता मूल्य सूचकांक को ध्यान में रखता है। अगली समीक्षा चार अगस्त को होनी है। बैंक ऑफ बड़ौदा के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी रंजन धवन ने कहा ‘यथास्थिति बरकरार रहेगी। मुझे नहीं लगता कि पिछली समीक्षा के मुकाबले वृहद्-आर्थिक स्थितियों में कोई खास बदलाव हुए हैं। आरबीआई मॉनसून पर नजर रखे हुए है। ऐसा कोई संकेत नहीं मिल रहा है कि मानसून अच्छा है या खराब।’

कुछ बैंकों का मानना है कि मुख्य दरों में और कटौती की कुछ गुंजाइश है। लेकिन केंद्रीय बैंक इस समीक्षा में यह कटौती करता है अथवा नहीं यह अभी अटकलबाजी है। एचडीएफसी बैंक के उप प्रबंध निदेशक परेश सुक्थंकर ने कहा, ‘आरबीआई मंगलवार को क्या करेगा, इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है लेकिन ब्याज दर में गिरावट का रुझान है। मैं उम्मीद करता हूं कि आरबीआई चालू वित्त वर्ष में 0.25-0.50 प्रतिशत की कटौती करेगा।’

Related Articles

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *