Breaking News
July 1, 2019 - डाक विभाग डिजिटल टेक्नालाजी के साथ कस्टमर-फ्रेंडली सेवाओं का  बढ़ा रहा दायरा – डाक निदेशक के के यादव
July 1, 2019 - बिहार के महादलितो को बंधुआगिरी से मिली मुक्ति, न्याय की आस में जंतर मंतर पर धरना
July 1, 2019 - अंतराष्ट्रीय मध्यम एवं लघु उद्योग दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रिय कवि सम्मलेन’- न्यूज़ इंक
July 1, 2019 - डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
May 31, 2019 - नरेंद्र मोदी ने किसको सौंपा कौन सा मंत्रालय ?
May 31, 2019 - राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य व साउथ ईस्ट एशिया में अग्रणी रहने पर राजस्थान को  मिला अवार्ड
May 3, 2019 - इरकॉन ने मनाया 43वां वार्षिक दिवस
एलजी और केंद्रीय सचिव की बैठक

एलजी और केंद्रीय सचिव की बैठक

नई दिल्ली । गृहमंत्रालय में दिल्ली के उपराज्यपाल एवं केंद्रीय गृह सचिव के बीच बैठक खत्म हो गई। उम्मीद के मुताबिक, दोनों के बीच दिल्ली सरकार के साथ चल रहे गतिरोध और अधिसूचना विवाद पर चर्चा हुई। चर्चा में क्या निकलकर आया ? इसका खुलासा नहीं हो पाया है। बताया जा रहा है कि इस बैठक में उन्होंने गृह सचिव एल सी गोयल से दिल्ली सरकार द्वारा किए गए कुछ अफसरों के स्थानांतरण पर अपनी चिंता प्रगट की।

दिल्ली में उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार के बीच जारी जंग के बीच आज एलजी गृहमंत्रालय पहुंचे। यहां उन्होंने गृह सचिव एल सी गोयल से करीब एक घंटे तक मुलाकात की। बताया जा रहा है कि दोनों के बीच गृह मंत्रालय की अधिसूचना पर आगे के रुख समेत कई प्रशासनिक मुद्दों पर बातचीत हुई।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में हाईकोर्ट के उस आदेश के खिलाफ़ पहुंच गई है, जिसमें हाईकोर्ट ने कहा था कि गृह मंत्रालय की ओर से जारी नोटिफिकेशन सही नहीं है। गृहमंत्रालय की दलील है कि इस मामले में कोर्ट की ओर से उसके पक्ष को सुना ही नहीं गया है। केंद्र की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को सुनवाई करेगा।

भ्रष्टाचार के आरोप में फंसे दिल्ली पुलिस के एक कांस्टेबल ने हाई कोर्ट में एसीबी की जांच को चुनौती थी। कांस्टेबल का कहना था कि दिल्ली पुलिस सीधे गृह मंत्रालय के अधीन आती है, इसीलिए एसीबी को उसके खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार नहीं है। कांस्टेबल की जमानत अर्जी खारिज करते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय ने केन्द्र सरकार की सेवाओं के अधिकारियों और कर्मियों के खिलाफ अपराधों पर कार्रवाई करने से दिल्ली सरकार की भ्रष्टाचार निरोधी शाखा (एसीबी) को रोकने वाली केन्द्र सरकार की अधिसूचना को ‘संदिग्ध’ करार दिया था और कहा था कि उप राज्यपाल स्वविवेक से कार्रवाई नहीं कर सकते।

Tagged with:

Related Articles

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *