Breaking News
July 1, 2019 - डाक विभाग डिजिटल टेक्नालाजी के साथ कस्टमर-फ्रेंडली सेवाओं का  बढ़ा रहा दायरा – डाक निदेशक के के यादव
July 1, 2019 - बिहार के महादलितो को बंधुआगिरी से मिली मुक्ति, न्याय की आस में जंतर मंतर पर धरना
July 1, 2019 - अंतराष्ट्रीय मध्यम एवं लघु उद्योग दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रिय कवि सम्मलेन’- न्यूज़ इंक
July 1, 2019 - डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
May 31, 2019 - नरेंद्र मोदी ने किसको सौंपा कौन सा मंत्रालय ?
May 31, 2019 - राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य व साउथ ईस्ट एशिया में अग्रणी रहने पर राजस्थान को  मिला अवार्ड
May 3, 2019 - इरकॉन ने मनाया 43वां वार्षिक दिवस
डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव

डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव

 

 

लखनऊ, 1 जुलाई 2019 :  फिलेटली सिर्फ डाक टिकटों का संग्रह ही नहीं, बल्कि इसका अध्ययन भी है। डाक टिकटों और पत्रों का संवेदनाओं से गहरा रिश्ता है। हर डाक टिकट के पीछे एक कहानी छिपी है।  सोशल मीडिया और वाट्सएप के इस दौर में कॉपी-पेस्ट की बजाय डाक टिकटों व पत्रों के पीछे छुपी कहानी से आज की युवा पीढ़ी को जोड़ने की जरूरत है, ताकि उनमें रचनात्मक अभिरुचि विकसित की जा सके। उक्त उद्गार लखनऊ (मुख्यालय) परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवायें श्री कृष्ण कुमार यादव ने लखनऊ जीपीओ में आयोजित फिलेटलिक समर कैम्प के समापन अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किये। कार्यक्रम की अध्यक्षता जीपीओ के चीफ पोस्टमास्टर आर. एन. यादव ने की। इस अवसर पर स्कूली बच्चों हेतु फिलेटलिक वर्कशॉप, सेमिनार और क़्विज प्रतियोगिता के आयोजन के साथ दीनदयाल स्पर्श छात्र वृत्ति योजना के बारे में भी बच्चों को जानकारी दी गई। इसमें विभिन्न स्कूलों के 50 से भी ज्यादा बच्चे शामिल हुए।

डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान है।  इनके माध्यम से विद्यार्थियों  एवं युवाओं को तमाम रोचक जानकारी प्राप्त होती है जो कि उनके व्यक्तित्व एवं कैरियर निर्माण में सहायक है। हर डाक टिकट एक अहम एवं समकालीन विषय को उठाकर वर्तमान परिवेश से इसे जोड़ता है, इससे विद्यार्थियों को काफी फायदा होता है।

चीफ पोस्ट मास्टर आरएन यादव ने कहा कि, डाक टिकट लोगों को अपनी सभ्यता, संस्कृति और विरासत से अवगत कराता है। ऐसे में डाक टिकट संग्रह के प्रति बच्चों में अभिरुचि विकसित करना जरुरी है। बच्चों  को उन्होंने फिलेटली डिपोजिट एकाउंट खाता के माध्यम से फिलेटली में रूचि बढाने के लिए भी प्रोत्साहित किया।

कार्यक्रम के दौरान डाक टिकट संग्रह पर कार्यशाला को सीनियर फिलेटलिस्ट  दिनेश चन्द्र शर्मा एवं अशोक कुमार ने संबोधित किया। डा० जे० के० अवस्थी ने  दीन दयाल स्पर्श छात्रवृत्ति योजना तथा पत्र लेखन प्रतियोगिता  के बारे में विस्तार से बताया।  इसके उपरान्त फिलेटली पर सेमिनार आयोजित किया गया |  सेमिनार में अनन्या मिश्रा (सीएमएस) , सिद्धि जैन (एलपीएस), वैष्णवी (वी.वी.वी.एम इन्टर कॉलेज), अमृतांशी सिंह राठौर(सीएमएस), कु० बीनू मौर्य, आयुष्मत मौर्य, अर्पिता सिंह राठौर (सीएमएस) एवं मास्टर सूरज आदि प्रतिभागियों ने अपने विचार व्यक्त किये | डाक टिकट प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का संचालन क्विज मास्टर  दिनेश चन्द्र शर्मा, स्कोरर कोमल दयाल एवं स्नेहा गुप्ता द्वारा किया गया।  विभिन्न प्रतियोगिता के विजेताओं को डाक निदेशक श्री कृष्ण कुमार यादव ने सर्टिफिकेट और ट्राफी देकर पुरस्कृत किया। क्विज प्रतियोगिता में  जूनियर वर्ग में अविश्मत भारद्वाज, अनन्या मिश्रा, वंश मेहदी रत्ता और सीनियर वर्ग में  सिद्धि जैन, अर्पिता सिंह राठौर, रिया शर्मा ने क्रमश :  प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया।

इस अवसर पर डिप्टी चीफ पोस्टमास्टर टीपी सिंह, राम बिलास, डाक निरीक्षक कोमल, प्रभाकर वर्मा, लखनऊ फिलेटलिक एसोसिएशन के अध्यक्ष बीएस भार्ग,  सीनियर फिलेटलिस्ट दिनेश चंद्र शर्मा, अशोक कुमार, गोपाल गुप्ता, रमेश चंद्र प्रजापति, सुनील कुमार गुप्ता सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।   कार्यक्रम का संचालन डॉ. जेके अवस्थी ने किया।