Breaking News
March 20, 2020 - कोरोना से बचाव के लिए डाकघरों में हुए विशेष प्रबंध
March 20, 2020 - कमलनाथ ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा
March 20, 2020 - चंद्रप्रकाश राज अध्यक्ष व पंकज श्रीवास्तव महासचिव बने
March 18, 2020 - प्रत्येक ट्रिप के पूर्व बसों को सैनिटाइजर करें-जिलाधिकारी
February 28, 2020 - केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री को लिखा पत्र- जल शक्ति मिशन में राजस्थान के लिए 90 प्रतिशत अंशदान – मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत
February 28, 2020 - सारण जिले में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए जिलाधिकारी ने दिया शक्त निर्देश
February 26, 2020 - भवन निर्माण तकनीकी में बदलाव जरुरी -जिलाधिकारी सारण
February 26, 2020 - उत्तर प्रदेश परिमण्डल की मेजबानी में 33वीं अखिल भारतीय डाक फुटबॉल प्रतियोगिता का शुभारम्भ
सरकार ने एमआईजी योजना के लिए सीएलएसएस की अवधि 31 मार्च, 2020 तक बढ़ाई

सरकार ने एमआईजी योजना के लिए सीएलएसएस की अवधि 31 मार्च, 2020 तक बढ़ाई

नई दिल्ली 31 दिसम्बर 2018 : आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने मध्‍य आय वर्ग (एमआईजी) योजना के लिए क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम (सीएलएसएस) की अवधि 12 म‍हीने अर्थात 31 मार्च 2020 तक बढ़ा दी है। आवासन और शहरी कार्य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री हरदीप सिंह पुरी ने एक संवाददाता सम्‍मेलन में इस आशय की घोषणा करते हुए कहा, ‘एमआईजी योजना के लिए सीएलएसएस की वृद्धि और प्रदर्शन बहुत अच्‍छा रहा है और इस साल के आखिर तक लाभार्थियों की संख्‍या एक लाख तक पहुंचने वाली है।‘

एमआईजी वर्ग के युवा व्‍यवसायियों और उद्यमियों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए एमआईजी के लिए नई सीएलएसएस की शुरूआत करने की घोषणा माननीय प्रधानमंत्री द्वारा 31.12.2016 को राष्‍ट्र के नाम संदेश के दौरान की गई थी। एमआईजी योजना के लिए सीएलएसएस मूलत: 12 महीनों के लिए 31.12.2017 को प्रारंभ की गई थी। इसके अंतर्गत मकान की प्राप्ति/निर्माण कराने के लिए बैंकों, आवास वित्‍त कंपनियों और अन्‍य ऐसी अधिसूचित कंपनियों से ऋण लेने वाले एमआईजी के लाभार्थियों को शामिल किया गया था। विविध हितधारकों से अक्‍तूबर 2017 में मिली जानकारी के आधार पर इस योजना की अवधि में विस्‍तार करने के प्रस्‍ताव पर विचार किया गया और इसे 15 महीने अर्थात 31.03.2019 तक बढ़ा दिया गया।
शुरूआत में नवम्‍बर 2017 में एमआईजी-I और एमआईजी-II के लिए आवास का कारपेट एरिया क्रमश: ‘120 वर्ग मीटर तक’ और ‘150 वर्ग मीटर तक’ था। बाद में, जून 2018 में एमआईजी-I और एमआईजी-II के लिए आवास का कारपेट एरिया को बढ़ाकर क्रमश: ‘160 वर्ग मीटर तक’ और ‘200 वर्ग मीटर तक’ कर दिया गया है।