Breaking News
July 1, 2019 - डाक विभाग डिजिटल टेक्नालाजी के साथ कस्टमर-फ्रेंडली सेवाओं का  बढ़ा रहा दायरा – डाक निदेशक के के यादव
July 1, 2019 - बिहार के महादलितो को बंधुआगिरी से मिली मुक्ति, न्याय की आस में जंतर मंतर पर धरना
July 1, 2019 - अंतराष्ट्रीय मध्यम एवं लघु उद्योग दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रिय कवि सम्मलेन’- न्यूज़ इंक
July 1, 2019 - डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
May 31, 2019 - नरेंद्र मोदी ने किसको सौंपा कौन सा मंत्रालय ?
May 31, 2019 - राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य व साउथ ईस्ट एशिया में अग्रणी रहने पर राजस्थान को  मिला अवार्ड
May 3, 2019 - इरकॉन ने मनाया 43वां वार्षिक दिवस
देश में केवल राजस्थान में महिला आयोग के पास खुद का पुलिस बल 

देश में केवल राजस्थान में महिला आयोग के पास खुद का पुलिस बल 

जयपुर, 21 मार्च 2018: राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य श्रीमती सुषमा साहू ने प्रदेश में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ और महिला सशक्तिकरण से जुड़ी योजनाओं की जमकर प्रशंसा की। उन्होंने राजस्थान राज्य महिला आयोग द्वारा किये जा रहे कायोर्ं की भी सराहना की और कहा कि पूरे देश भर में केवल राजस्थान में महिला आयोग के पास खुद का पुलिस बल है, जो कि राज्य के लिए गौरव का विषय है।
श्रीमती साहू बुधवार को ओटीएस सभागार में राजस्थान राज्य महिला आयोग द्वारा आयोजित नारी सम्मान समारोह को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि सरकार योजनाएं बना कर नारी को संबल प्रदान कर सकती है, लेकिन यदि महिलाओं को सच में सशक्त बनाना है तो समाज की सोच को बदलना होगा। उन्होंने कहा कि जब समाज के लोग बेटियों और महिलाओं के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझेंगे तभी उनके अधिकारों की सुरक्षा होगी और वो पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर हर क्षेत्र में बराबरी से खड़ी होंगी।
DSC_7564
इस अवसर पर राज्य महिला आयोग की ओर से विभिन्न क्षेत्रों में अपनी प्रतिभाओं का प्रदर्शन करने वाली एवं महिला शिक्षा तथा सशक्तिकरण की दिशा में उल्लेखनीय कार्य करने वाली प्रदेश की 24 महिलाओं को सम्मानित किया गया। प्रदेश भर से चयनित इन महिलाओं ने खेल, महिला शिक्षा एवं सशक्तिकरण, जेल में बंद महिलाओं को सशक्त बनाना, महिला सुरक्षा, खेती, व्यवसाय, महिला रोजगार जैसे क्षेत्रों में प्रशंसनीय कार्य किया है।
राजस्थान राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती सुमन शर्मा ने सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि इन महिलाओं ने विपरीत परिस्थितियों में भी हार न मानते हुए न केवल अपने व्यक्तित्व और जीवन को उंचाइयों तक पहुंचाया है, बल्कि अपने आस पास की महिलाओं को भी दिशा दिखाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि ये सभी नारी सशक्तिकरण की मिसाल हैं, और इनसे हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिये।
श्रीमती शर्मा ने बताया कि महिला आयोग में लम्बित मामलों को निबटाकर त्वरित न्याय दिलाना उनकी पहली प्राथमिकता रही है। उन्होंने कहा लम्बित मामलों की संख्या जो 32 हजार थी अब वह घटकर लगभग 5 हजार रह गई है और उनका प्रयास है कि जल्द ही यह शून्य पर आ जाए। उन्होंने बताया कि गांव देहात तक की महिलाओं की भी आयोग की पहुंच हो इसलिए जिला स्तर पर महिला जिला मंच एवं ग्रामीण क्षेत्रों के लिए सरपंच की अध्यक्षता में महिला पंचायतों का गठन किया गया है।
  इस अवसर पर राज्य महिला आयोग की वार्षिक पत्रिका वसुधा का भी विमोचन किया गया। समारोह में राज्य महिला आयोग की सदस्य, सदस्य सचिव एवं अन्य अधिकारीगण, विभिन्न स्कूल कॉलेजों की छात्राएं एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।