Breaking News
May 11, 2020 - श्री जामदार राय, समाजसेवी ने पी एम् केयर्स फण्ड में किया 11 लाख का योगदान
March 20, 2020 - कोरोना से बचाव के लिए डाकघरों में हुए विशेष प्रबंध
March 20, 2020 - कमलनाथ ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा
March 20, 2020 - चंद्रप्रकाश राज अध्यक्ष व पंकज श्रीवास्तव महासचिव बने
March 18, 2020 - प्रत्येक ट्रिप के पूर्व बसों को सैनिटाइजर करें-जिलाधिकारी
February 28, 2020 - केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री को लिखा पत्र- जल शक्ति मिशन में राजस्थान के लिए 90 प्रतिशत अंशदान – मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत
February 28, 2020 - सारण जिले में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए जिलाधिकारी ने दिया शक्त निर्देश
February 26, 2020 - भवन निर्माण तकनीकी में बदलाव जरुरी -जिलाधिकारी सारण
जनता का मिजाज भांपने के लिए गांवों का दौरा कर रहे हैं रमन सिंह

जनता का मिजाज भांपने के लिए गांवों का दौरा कर रहे हैं रमन सिंह

जांजगीर/चांपा ( छत्तीसगढ़) 20 मार्च 2018: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह इस साल होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर जनता का मिजाज भांपने के लिए नक्सल प्रभावित राज्य के गांवों का औचक दौरा कर रहे हैं। बीजेपी की ओर से सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री पद पर बने रहने वाले सिंह को सत्ता विरोधी लहर को हराने की उम्मीद है। बता दें, राज्‍य में इसी साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

उन्होंने गांववालों से उनकी समस्याओं के बारे में पूछा तथा अपने साथ दौरा कर रहे अधिकारियों को ‘लोक सुराज’ नामक पहल के तौर पर ‘तुरंत समाधान’ निकालने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मंगलवार को जांजगीर-चांपा जिले के अकलतारा मंडल में सीमावर्ती गांव अमोरा का दौरा किया और लोगों तथा क्षेत्र के विकास से जुड़े कई मुद्दे सुने।

एक जनसभा में कुछ गांववालों ने सार्वजनिक शौचालयों के खराब निर्माण, बिजली उपलब्ध ना होने और कुछ इलाकों में राशन कार्ड जारी करने में अनियमितताओं को लेकर शिकायत की। रमन सिंह ने जिलाधीश और संबंधित अन्य अधिकारियों को तुरंत इन समस्याओं को हल करने के लिए कहा।

रमन सिंह ने मीडिया से बातचीत में ‘लोक सुराज’ को सुशासन की अनोखी पहल बताया जिसमें लोगों से सीधे संवाद किया जाता है। उन्होंने कहा कि गांवों का दौरा करने की वजह अपने लोगों की परेशानियों को जानना और उनकी समस्याओं को हल करना है। सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उज्जवला योजना के तहत 63 गांवों में एलपीजी गैस और स्टोव वितरित किए। उन्होंने राज्य सरकार की कल्याणकारी योजना के तहत 11 परिवारों को वित्तीय सहायता भी दी।