Breaking News
January 29, 2020 - पूर्व मंत्री श्री उदित राय ने चौथे भिखारी ठाकुर रंग महोत्सव कार्यक्रम का उद्घाटन किया
January 27, 2020 - लखनऊ जीपीओ में डाक निदेशक केके यादव ने किया गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण
January 27, 2020 - राजपथ पर छाया राजस्थानी लोक कला एवं संस्कृति का रंग
July 1, 2019 - डाक विभाग डिजिटल टेक्नालाजी के साथ कस्टमर-फ्रेंडली सेवाओं का  बढ़ा रहा दायरा – डाक निदेशक के के यादव
July 1, 2019 - बिहार के महादलितो को बंधुआगिरी से मिली मुक्ति, न्याय की आस में जंतर मंतर पर धरना
July 1, 2019 - अंतराष्ट्रीय मध्यम एवं लघु उद्योग दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रिय कवि सम्मलेन’- न्यूज़ इंक
July 1, 2019 - डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
अंसारी को लेकर विवाद गहराया

अंसारी को लेकर विवाद गहराया

योग दिवस कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की अनुपस्थिति पर भाजपा महासचिव राम माधव द्वारा सवाल खड़ा किये जाने के बाद उठा विवाद आज और गहराया जब कांग्रेस ने सत्तारूढ पार्टी पर विभाजनकारी राजनीति करने का आरोप लगाया और सरकार ने स्पष्ट किया कि प्रोटोकाल मुददे के चलते उन्हें आमंत्रित नहीं किया गया था।

आयुष राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि कार्यक्रम में जब प्रधानमंत्री मुख्य अतिथि हों तो प्रोटोकाल के नियमों के मुताबिक वहां राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति को आमंत्रित नहीं किया जा सकता क्योंकि प्रधानता के क्रम में ये दोनों प्रधानमंत्री से उपर हैं। आयुष मंत्रालय ने ही कल राजपथ पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन किया था।

नाइक ने कहा, जब प्रधानमंत्री मुख्य अतिथि है तब उपराष्ट्रपति को आमंत्रित करना उचित नहीं है। इसी कारण हमने उन्हें निमंत्रण नहीं भेजा। राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति प्रधानता के क्रम में प्रधानमंत्री से उपर हैं और तदनुसार हम उन्हें आमंत्रित नहीं कर सकते थे।

विवाद को तवज्जो न देने का प्रयास करते हुए नाइक ने कहा कि माधव ने अपने बयान को वापस ले लिया है और साथ ही कहा कि गलती से ऐसा हुआ होगा। उन्होंने कहा, गलती से ऐसा हुआ होगा। इससे बचा जाना चाहिए था लेकिन हमने अपनी गलती मान ली है।

इस मुद्दे पर सरकार के स्पष्टीकरण के मददेनजर उपराष्ट्रपति के कार्यालय ने कहा कि उनके लिए यह मामला यहीं समाप्त हो जाता है क्योंकि मंत्री का बयान तार्किक लगता है।

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *