Breaking News
May 11, 2020 - श्री जामदार राय, समाजसेवी ने पी एम् केयर्स फण्ड में किया 11 लाख का योगदान
March 20, 2020 - कोरोना से बचाव के लिए डाकघरों में हुए विशेष प्रबंध
March 20, 2020 - कमलनाथ ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा
March 20, 2020 - चंद्रप्रकाश राज अध्यक्ष व पंकज श्रीवास्तव महासचिव बने
March 18, 2020 - प्रत्येक ट्रिप के पूर्व बसों को सैनिटाइजर करें-जिलाधिकारी
February 28, 2020 - केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री को लिखा पत्र- जल शक्ति मिशन में राजस्थान के लिए 90 प्रतिशत अंशदान – मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत
February 28, 2020 - सारण जिले में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए जिलाधिकारी ने दिया शक्त निर्देश
February 26, 2020 - भवन निर्माण तकनीकी में बदलाव जरुरी -जिलाधिकारी सारण
श्री राजनाथ सिंह दक्षिणी क्षेत्र परिषद की 26वीं बैठक की अध्यक्षता करेंगे

श्री राजनाथ सिंह दक्षिणी क्षेत्र परिषद की 26वीं बैठक की अध्यक्षता करेंगे

केंद्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह कल आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में दक्षिणी क्षेत्रीय परिषद की 26वीं बैठक की अध्यक्षता करेंगे। दक्षिणी क्षेत्रीय परिषद में आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल, तेलंगाना और पुडुचेरी शामिल हैं। बैठक में सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और केंद्र और राज्य सरकारों के वरिष्ठ अधिकारियों के हिस्सा लेने की संभावना है।

क्षेत्रीय परिषदें राज्य पुनर्गठन कानून, 1956 के तहत गठित की गई हैं। ये बुनियादी ढांचा क्षेत्र, स्वास्थ्य, सुरक्षा, सामाजिक कल्याण, भाषाई अल्पसंख्यक मामले, सीमा विवाद जैसे मामलों पर परामर्श देती हैं और राज्यों से इन मामलों पर उठाए जाने वाले कदमों पर विचार-विमर्श करती हैं। देश में पूर्वी, पश्चिमी, उत्तरी दक्षिणी और मध्य क्षेत्र के लिए पांच क्षेत्रीय परिषदें हैं। 1 अप्रैल 2011 से क्षेत्रीय परिषदों के सचिवालय के कामकाज अंतर राज्य परिषद सचिवालय में स्थानांतरित कर दिए गए हैं।

हरेक क्षेत्रीय परिषद की बैठक एक साल में आयोजित करना जरूरी है ताकि विकास के उन मुद्दों पर राज्य सरकारों के बीच मतभेद दूर किए जा सकें जिनका संबंध क्षेत्रीय हितों और राष्ट्रीय कार्यक्रमों से है। हालांकि पिछले कुछ अरसों के दौरान ज्यादातर क्षेत्रीय परिषदों की बैठकें अनियमित ही रही हैं।

सलाह-मशविरे के जरिये क्षेत्रीय और राज्यों के बीच के मुद्दों को सुलझाने में इन संस्थानों की जबरदस्त क्षमता को देखते हुए सत्ता में आते ही मैजूदा सरकार ने इन मंचों को पुनर्जीवित करने का फैसला किया ।

वर्ष 2011 से ही क्षेत्रीय परिषदों का कामकाज देख रहे अंतर राज्य परिषद सचिवालय को निर्देश दिया गया कि 2015 के अंत तक वर्षों से लंबित पड़ी सभी क्षेत्रीय परिषदों की बैठकों की तैयारी पूरी कर लें।

यह काफी चुनौतीपूर्ण काम था क्योंकि परिषदों की बैठक से पहले इन क्षेत्रीय परिषदों की स्थायी कमेटियों की बैठक जरूरी होती है। केंद्रीय गृह मंत्री की अध्यक्षता में सभी क्षेत्रीय परिषदों की बैठक के लिए काफी ज्यादा समन्वय (को-ऑर्डिनेशन) और नेटवर्किंग जरूरी थी।

राज्यों के चुनाव, प्राकृतिक आपदाएं, कानून और व्यवस्था और ऐसे ही दबाव वाले कई मुद्दों की वजह से बैठकें आयोजित करने की राह में अड़चनें तो आ रही थीं लेकिन सरकारी मशीनरी पूरी ताकत से लगी रही और आखिरकार बैठकों की तैयारियां पूरी कर ली गईं। दक्षिणी क्षेत्रीय परिषदों की बैठक इस साल क्षेत्रीय परिषदों की आखिरी बैठक है। इसके साथ ही सरकार के वादे के मुताबिक सभी क्षेत्रीय परिषदों की बैठकें पूरी हो जाएंगी।

दक्षिणी क्षेत्रीय परिषद की स्थायी कमेटी की 8वीं बैठक हैदराबाद में 19 नवंबर, 2014 को हो चुकी है। इसमें क्षेत्रीय परिषद की बैठक में उठाए जाने वाले मुद्दों और प्रस्तावों की जांच कर ली गई।

दक्षिणी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में परिषद के सदस्य राज्य तटीय सुरक्षा, प्रायद्वीपीय क्षेत्र औद्योगिक गलियारे, प्रायद्वीप क्षेत्र में पर्यटन के लिए ट्रेनें शुरू करने, एक से दूसरे राज्य में वाहनों की आवाजाही के लिए परिवहन समझौते, फलों और सब्जियों में बहुत ज्यादा कीटनाशकों के प्रयोग, नर्सिंग कोर्सों के एक समान मानक तय करने जैसे विषय के अलावा केंद्र-राज्य और अंतर राज्य मामलों से जुड़े और अहम मुद्दे उठा सकते हैं।