Breaking News
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
May 31, 2019 - नरेंद्र मोदी ने किसको सौंपा कौन सा मंत्रालय ?
May 31, 2019 - राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य व साउथ ईस्ट एशिया में अग्रणी रहने पर राजस्थान को  मिला अवार्ड
May 3, 2019 - इरकॉन ने मनाया 43वां वार्षिक दिवस
April 18, 2019 - डाक विभाग को सर्वाधिक व्यवसाय देने वाले संस्थानों को डाक निदेशक केके यादव ने किया सम्मानित 
April 14, 2019 - साहित्यकार व ब्लॉगर आकांक्षा यादव  “स्त्री अस्मिता सम्मान-2019” से  सम्मानित
December 31, 2018 - आम आदमी के हित चिंतक थे लोकबंधु राजनारायण : गोपाल जी राय, लेखक व विचारक
December 31, 2018 - सरकार ने एमआईजी योजना के लिए सीएलएसएस की अवधि 31 मार्च, 2020 तक बढ़ाई
रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की अलंकरण परेड का आयोजन

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की अलंकरण परेड का आयोजन

नई दिल्ली के दयाबस्ती स्थित छठी बटालियन के आरपीएसएफ परिसर में आज यानी 03.11.2015 को रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की अलंकरण परेड का आयोजन किया गया। रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु इस समारोह के मुख्य अतिथि और रेल राज्य मंत्री श्री मनोज सिन्हा सम्मानित अतिथि (गेस्ट ऑफ ऑनर) थे। इस अवसर रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष श्री ए.के. मित्तल, रेलवे बोर्ड के सदस्य स्टाफ श्री प्रदीप कुमार, बोर्ड के अन्य सदस्य तथा उत्तर रेलवे के अधिकारी मौजूद थे। समारोह में आरपीएफ के महानिदेशक श्री राजीव रंजन वर्मा ने स्वागत भाषण दिया।

रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु मंत्री ने सलामी ली और परेड का निरीक्षण किया। इस दौरान आरपीएफ के जवानों ने प्रभावशाली मार्च पास्ट किया। रेल मंत्री और रेल राज्य मंत्री ने इस अवसर पर आरपीएफ अधिकारियों/आरपीएफ कर्मियों को पुरस्कार प्रदान किये। बल के सात अधिकारियों/आरपीएफ कर्मियों को उनकी विशिष्ट सेवा के लिए प्रतिष्ठित राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया गया। वहीं 59 को उनकी सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक से नवाजा गया। यह उपलब्धि आरपीएफ के लिए काफी संतुष्टिदायक है। अन्य पुरस्कारों में योग्य आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मियों को रेल मंत्री सर्वोत्तम जांच, बहादुरी, रेलवे में सामुदायिक पुलिस जागरूकता आदि पुरस्कार वितरित किए गए। आज के अलंकरण समारोह समेत अब तक आरपीएफ कर्मियों को 75 पीपीएम और 689 आईपीएम से सम्मानित किया जा चुका है।

इस अवसर पर बोलते हुए रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु ने कहा कि आरपीएफ को रेलवे की संपत्ति और यात्रियों की सुरक्षा की एक विशेष जिम्मेदारी दी गई है, जिसका निर्वहन वे पूरी निष्ठा के साथ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आरपीएफ कर्मी देश की समग्र सुरक्षा में भी उपयोगी योगदान दे रहे हैं। पुरस्कार विजेताओं की सराहना करते हुए श्री सुरेश प्रभु ने कहा कि यह दर्शाता है कि उन्होंने बहुत श्रम किया और कर्तव्य के निर्वहन के दौरान अपने जीवन की परवाह नहीं की। ये पुरस्कार विजेता अन्य आरपीएफ कर्मियों को अधिक से अधिक समर्पण के साथ काम करने के लिए प्रेरित करेंगे। कानून-व्यवस्था के मुद्दों का जिक्र करते हुए श्री सुरेश प्रभु ने कहा कि आम तौर पर रेलवे को आसान लक्ष्य माना जाता है और यह राष्ट्र विरोधी तत्वों के नापाक इरादों का शिकार हो सकता है। रेल मंत्री ने कहा कि लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आरपीएफ को आतंकवाद और अन्य राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के खतरे को लेकर पूरी तरह तत्पर रहना होगा। श्री सुरेश प्रभु ने जानकारी देते हुए बताया कि एक रणनीतिक सेल गठित किए जाने की आवश्यकता है, जो किसी भी असामाजिक और अनहोनी गतिविधि से पैदा हुए खतरे को लेकर रणनीति तैयार कर सके। हम राष्ट्र विरोधी तत्वों को उनके नृशंस और जघन्य कृत्यों में सफल नहीं होने देंगे।

प्रौद्योगिकी के महत्व पर जोर देते हुए श्री सुरेश प्रभु ने कहा कि रेलवे सुरक्षा प्रणाली में तकनीक का इस्तेमाल हो रहा है और इसे लगातार अपडेट किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रेलवे ने सीसीटीवी, स्कैनर का उपयोग, हेल्पलाइन नंबरों की स्थापना जैसे तकनीक पर आधारित उपायों को शुरू किया है। उन्होंने कहा कि नई तकनीक और नई सुरक्षा पहल के लिए धन की कोई कमी नहीं होगी। रेल मंत्री ने आरपीएफ कर्मियों के लिए एक मजबूत प्रशिक्षण प्रणाली की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने आरपीएफ को अधिक सतर्क रहने के लिए कहा ताकि यह एक मजबूत और कड़े बल के रूप में उभरे, जिससे अपराधियों में भी इसका भय हो।

श्री सुरेश प्रभु ने कहा कि प्रभावी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकारों की रेलवे पुलिस के साथ बेहतर समन्वय की आवश्यकता है क्योंकि वास्तव में कानून-व्यवस्था राज्य का विषय है। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों का साझा उद्देश्य अपने लोगों को सर्वोत्तम संभव सुरक्षा प्रदान करना है। सुरेश प्रभु ने कहा कि उन्होंने एक समन्वित और सहज सुरक्षा तंत्र पर काम करने के लिए विभिन्न राज्यों के सभी मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा कि रेलवे महिलाओं की सुरक्षा पर पर्याप्त ध्यान दे रहा है और कुछ जोनल रेलवे ने महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने की खातिर मोबाइल फ़ोनों के लिए स्थानीय सुरक्षा एप्लिकेशन विकसित किया है। श्री प्रभु ने कहा कि रेलवे जल्द ही एक अखिल भारतीय महिला सुरक्षा एप्लिकेशन लाएगा, जिसका महिलाएं कहीं से भी लाभ उठा सकेंगी।

इस अवसर पर रेल राज्य मंत्री श्री मनोज सिन्हा ने कहा कि आरपीएफ को अधिक सतर्क और आतंकवाद तथा अन्य राष्ट्र विरोधी गतिविधि जैसी किसी भी सुरक्षा चुनौती के लिए तैयार रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है। रेल सुरक्षा हेल्पलाइन का जिक्र करते हुए श्री मनोज सिन्हा ने कहा कि इसने वास्तव में यात्रियों की बड़ी मदद की है और रेलवे प्रशासन संतोषजनक ढंग से शिकायतों का समाधान कर रहा है। उन्होंने कहा कि हमें सुरक्षा हेल्पलाइन नंबर को लोकप्रिय बनाना चाहिए ताकि अधिक से अधिक लोग इसका लाभ उठा सकें। उन्होंने आरपीएफ कर्मियों का आह्वान करते हुए कहा कि वे फिटनेस पर ध्यान दें।

(Deshpradesh.com brings you breaking news in Hindi on National, International, Sports, Bollywood, Lifestyle, Religion,
Get latest news and breaking news in Hindi from India only on देश प्रदेश डॉट कॉम,
Stay updated with देश प्रदेश for all the current news headlines and top stories from India,
up-to-date Hindi news coverage,
aggregated from sources all over the world news ,
India’s No.1 Hindi News Portal deshpradesh.com,
India’s No.1 Hindi News web Portal,
Latest Hindi News,
Latest news,News,National,International,States,Politics,Sports,Entertainment,Delhi News, Supreme Court,railways,ministry,
)

Related Articles