Breaking News
July 1, 2019 - डाक विभाग डिजिटल टेक्नालाजी के साथ कस्टमर-फ्रेंडली सेवाओं का  बढ़ा रहा दायरा – डाक निदेशक के के यादव
July 1, 2019 - बिहार के महादलितो को बंधुआगिरी से मिली मुक्ति, न्याय की आस में जंतर मंतर पर धरना
July 1, 2019 - अंतराष्ट्रीय मध्यम एवं लघु उद्योग दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रिय कवि सम्मलेन’- न्यूज़ इंक
July 1, 2019 - डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
May 31, 2019 - नरेंद्र मोदी ने किसको सौंपा कौन सा मंत्रालय ?
May 31, 2019 - राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य व साउथ ईस्ट एशिया में अग्रणी रहने पर राजस्थान को  मिला अवार्ड
May 3, 2019 - इरकॉन ने मनाया 43वां वार्षिक दिवस
राजस्थान की मुख्यमंत्राी ने की केन्द्रीय वित्त मंत्राी से मुलाकात

राजस्थान की मुख्यमंत्राी ने की केन्द्रीय वित्त मंत्राी से मुलाकात

नई दिल्ली: राजस्थान की मुख्यमंत्राी श्रीमती वसुन्धरा राजे ने केन्द्रीय वित्त मंत्राी श्री अरूण जेटली से राज्य की विद्युत कम्पनियों की माली हालत को सुधारने के लिए केन्द्र सरकार से वांछित मदद दिलवाने का आग्रह किया है। श्रीमती राजे ने सोमवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय वित्त मंत्राी से उनके नॉर्थ ब्लॉक स्थित कार्यालय में मुलाकात की।

मुख्यमंत्राी ने श्री जेटली को अवगत कराया कि हमारी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में राज्य की विद्युत कम्पनियों की माली हालत को सुधारने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाये थे। लेकिन पूर्ववर्ती सरकार के समय में राज्य की विद्युत वितरण कम्पनियों का घाटा 21 हजार करोड़ रुपए से बढ़कर 73 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच गया। जिससे हमारी सरकार को काफी वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

श्रीमती राजे ने कहा कि हमने पारेषण (ट्रांसमिशन) एवं वितरण की क्षति (छीजत) को कम करने के लिए गुजरात के विद्युत वितरण मॉडल का अध्ययन करवाया और सूचना एवं तकनीकी की मदद से राज्य में पारेषण एवं वितरण छीजत को 43 प्रतिशत से 27 प्रतिशत तक कम किया। जिससे वर्तमान में विद्युत कम्पनियां काफी मात्रा में विद्युत क्षति को रोकने में सफल हो पाई हैं। उन्होंने केन्द्रीय वित्त मंत्राी को विश्वास दिलाया कि राज्य सरकार आगामी तीन वर्षों में पारेषण एवं वितरण में छीजत को 18 प्रतिशत तक घटाने का भरपूर प्रयास करेगी।

मुख्यमंत्राी ने राज्य की विद्युत कंपनियों को घाटे से उबारने और विद्युत वितरण व्यवस्था को सुचारू ढंग से चलाने के लिए बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थाओं से सस्ती ब्याज दरों पर ऋण एवं वित्तीय सहायता दिलवाने में मदद करने का केन्द्रीय वित्त मंत्राी से आग्रह किया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में विद्युत वितरण कंपनियों को मिलने वाले ऋण पर ब्याज दर 12 से 15 प्रतिशत तक है, जो कि काफी ज्यादा है और इसका बोझ उठाना कम्पनियों के बूते के बाहर है। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मदद एवं बैंकों से सस्ती दरों पर ऋण मिलने पर राज्य में ’फीडर सैपरेशन कार्यक्रम‘ एवं ’फीडर मीटरिंग‘ के काम को भी शीघ्र पूरा किया जा सकेगा।

(deshpradesh.com (देशप्रदेश) is Hindi News Portal offers online breaking News in Hindi)

Related Articles