Breaking News
July 1, 2019 - डाक विभाग डिजिटल टेक्नालाजी के साथ कस्टमर-फ्रेंडली सेवाओं का  बढ़ा रहा दायरा – डाक निदेशक के के यादव
July 1, 2019 - बिहार के महादलितो को बंधुआगिरी से मिली मुक्ति, न्याय की आस में जंतर मंतर पर धरना
July 1, 2019 - अंतराष्ट्रीय मध्यम एवं लघु उद्योग दिवस के अवसर पर ‘राष्ट्रिय कवि सम्मलेन’- न्यूज़ इंक
July 1, 2019 - डाक टिकटों का शिक्षा प्रणाली को मजबूत करने में अहम योगदान-डाक निदेशक के के यादव
May 31, 2019 - भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तरी क्षेत्र) में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
May 31, 2019 - नरेंद्र मोदी ने किसको सौंपा कौन सा मंत्रालय ?
May 31, 2019 - राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य व साउथ ईस्ट एशिया में अग्रणी रहने पर राजस्थान को  मिला अवार्ड
May 3, 2019 - इरकॉन ने मनाया 43वां वार्षिक दिवस
पूर्व प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शाष्त्री पर एक व्याखान का आयोजन

पूर्व प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शाष्त्री पर एक व्याखान का आयोजन

आज जब भारत १९६५ के भारत-पाक युद्ध विजय का पचास वर्ष पूरे होने पर राजपथ पर स्वर्णिम समारोह का आयोजन किया है।

इस सन्दर्व में हम सभी सौभायशाली है कि उस समय के महानायक देश के भूतपूर्व प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शाष्त्री जी का उत्सव समारोह पंडित बाबू लाल शर्मा चैरिटेबल ट्रस्ट की ओर से आयोजित किया गया। जिसमे उनसे जुड़ी हुयी घटनाओ पर प्रकाश डालने के उदेश्य से एक व्याखान का आयोजन किया गया। इस अवसर पर अनेक वक्ताओ ने अपने विचार वयक्त किये और उनसे जुड़ी कई रोचक जानकारिया दी।

इस अवसर पर उनके पोते श्री आदर्श शाष्त्री जी, जो द्वारका से आम आदमी पार्टी के विधायक भी है, अपने परिवार से जुड़ी कुछ बातें एवं लाल बहादुर शाष्त्री के बारे में उन घटनाओं का जिक्र किया जो हम सभी को पहली बार पता लगा, और उन्होंने यह भी बताया की “जय जवान जय किसान” एक नारा मात्र नहीं था बल्कि एक विचारधारा है, जिसे आज के मॉडर्न थिंकर महसूस करते है। उनके सादगी एवं विचारधारा को सभी सलाम करते है। ऐसी ही एक घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि जब लाल बहादुर शाष्त्री जी कामनवेल्थ मीटिंग में सम्मलित होने इंग्लैंड गए और वंहा उनके स्वागत में वंहा की रानी ने डिनर का आयोजन किया था। जब शाष्त्री जी एवं उनकी पत्नी खाने पर पहुचे तो देखा की खाना खाने के लिए चमंच और फोर्क की व्यवस्था है, शाष्त्री जी ने देखा की उनकी पत्नी को फोर्के से खाने में अटपटा लग रहा है, तो तुरंत शाष्त्री जी अपने हाथ से खाने लगे और इसे देख वंहा उपस्थित सभी लोंग चमंच छोड़ कर, हाथो से खाने लगे। अर्थात उन्हें किसी प्रकार की हिचकिचाहट नहीं होती थी, वे जैसा है वैसा ही रहना चाहते थे कोई बनावटी व्यवहार करना पसंद नहीं था।

उनके अदम्य साहस का परिचय १९६५ के युद्ध में दिखा, जन्हा उन्होंने पाकिस्तान को दिखा दिया का कद छोटा है पर इरादे बिलकुल साफ है। दुश्मन के साथ दुश्मन जैसा व्यवहार करना उचित होता है। हम शांति प्रिय है पर कमजोर नहीं। उस समय अमेरिका के दबाव को भी उन्होंने साहस के साथ जबाब दिया और गेंहू न देने की वजह से जो देश को भुखमरी झेलनी परती उसके लिए कहा कि हम सभी लोंग सप्ताह में एक दिन उपवास रखेंगे जिससे इस समस्या का हल निकाला जा सके।

इस अवसर पर आदर्श शाष्त्री एवं अन्य विशिष्ट अतिथियों द्वारा “थाट ऑफ़ मॉडर्न लीडर्स” नाम की बुक का भी बिमोचन किया गया। इस आयोजन के लिए सभी लोगों ने बाबु लाल शर्मा चैरिटेबल ट्रस्ट एवं संचालक श्री हिमांशु उपाध्याय जी को धन्यवाद् दिया की ऐसे कारिक्रमो से समाज में लाल बहादुर शाष्त्री जी तथा अन्य महा पुरुषों के आदर्शो को नई पीड़ी में समावेशित किया जा सकेगा।

संवादाता : देश प्रदेश, नई दिल्ली