Breaking News
May 11, 2020 - श्री जामदार राय, समाजसेवी ने पी एम् केयर्स फण्ड में किया 11 लाख का योगदान
March 20, 2020 - कोरोना से बचाव के लिए डाकघरों में हुए विशेष प्रबंध
March 20, 2020 - कमलनाथ ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा
March 20, 2020 - चंद्रप्रकाश राज अध्यक्ष व पंकज श्रीवास्तव महासचिव बने
March 18, 2020 - प्रत्येक ट्रिप के पूर्व बसों को सैनिटाइजर करें-जिलाधिकारी
February 28, 2020 - केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री को लिखा पत्र- जल शक्ति मिशन में राजस्थान के लिए 90 प्रतिशत अंशदान – मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत
February 28, 2020 - सारण जिले में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए जिलाधिकारी ने दिया शक्त निर्देश
February 26, 2020 - भवन निर्माण तकनीकी में बदलाव जरुरी -जिलाधिकारी सारण
गृह मंत्रालय द्वारा हिंदी दिवस समारोह का आयोजन

गृह मंत्रालय द्वारा हिंदी दिवस समारोह का आयोजन

हिन्‍दी दिवस के उपलक्ष्‍य पर राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने आज यहां एक समारोह में वर्ष 2014-15 के राजभाषा पुरस्‍कार प्रदान किए। समारोह को संबोधित करते हुए राष्‍ट्रपति ने आह्वान किया कि हिन्‍दी के प्रयोग को तकनीकी संस्‍थानों में बढ़ावा देना चाहिए और सरल भाषा में अनुवाद अपनाना चाहिए। श्री मुखर्जी ने संतोष व्‍यक्‍त किया कि संचार और सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में हिन्‍दी का प्रयोग बढ़ा है। राष्‍ट्रपति ने टिप्‍पणी की कि हिन्‍दी हमारी संस्‍कृति और इतिहास को वर्तमान से जोड़ने वाली कड़ी है। उन्‍होंने आशा जताई कि निकट भविष्‍य में हिन्‍दी को संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ में राजभाषा का दर्जा प्राप्‍त होगा।

अपने अध्‍यक्षीय भाषण में केन्‍द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने अफसोस जताया कि हमने हिन्‍दी को राजभाषा का दर्जा वर्ष 1949 में जरूरी दिया पर इस पर उम्‍मीद से कम अमल किया और हिन्‍दी को उचित सम्‍मान नहीं दिया। उन्‍होंने इस तर्क को मिथ्‍य बताया कि दक्षिण भारत में लोग हिन्‍दी की बजाया अंग्रेजी भाषा को अधिक महत्‍व देते हैं। श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतवर्ष की 75 प्रतिशत से अधिक जनसंख्‍या हिन्‍दी को समझ या बोल सकती है। उन्‍होंने कहा कि गैर-हिन्‍दी भाषी प्रदेश के अग्रणी नेता जैसे मराठी भाषी बाल गंगाधर तिलक, तमिल भाषी एन. गोपाला स्‍वामी अय्यर और गुजरात के स्‍वामी दयानन्‍द सरस्‍वती ने हिन्‍दी भाषा को राष्‍ट्र भाषा का दर्जा देने के लिए योगदान दिया। गृह मंत्री ने कहा कि हाल के वर्षों में हाईटेक सॉफ्टवेयर कंपनियों ने हिन्‍दी के प्रयोग को बढ़ावा दिया है। उन्‍होंने बताया कि देश में इंटरनेट पर 94 प्रतिशत सामग्री हिन्‍दी में उपज होती है। श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हम भारत को महाशक्ति के रूप में नहीं, अपितु जगत गुरु के रूप में उभारना चाहते हैं। उन्‍होंने सरकारी कर्मचारियों से कहा कि आज हिन्‍दी दिवस के उपलक्ष्‍य में हम यह शपथ लें कि शुरूआत में कम से कम अपना हस्‍ताक्षर हिन्‍दी में करें।

Related Articles