- HEADLINES, Home, INTERVIEW, LIVE TV, SPECIAL STORY, STATE WATCH

वैश्विक स्तर पर अयोध्या की पारम्परिक रामलीला का मंचन पर विशेष डाक आवरण एवं विरूपण




अयोध्या, 04 सितंबर 2021 : रामायण कॉन्क्लेव के शुभारम्भ अवसर पर भारत के महामहिम राष्ट्रपति माननीय श्री रामनाथ कोविंद ने “अयोध्या शोध संस्थान द्वारा वैश्विक स्तर पर अयोध्या की पारम्परिक रामलीला का मंचन” पर विशेष डाक आवरण का विमोचन किया । उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा ने राष्ट्रपति महोदय को विशेष आवरण का प्रथम सेट भेंट किया। इस मौक़े पर पोस्टमास्टर जनरल लखनऊ परिक्षेत्र श्री विवेक कुमार दक्ष , प्रवर् डाक अधीक्षक फैजाबाद मंडल श्री आर एन यादव  समेत डाक विभाग के अन्य अधिकारी  तथा अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक डॉ लवकुश द्विवेदी भी मौजूद रहे।रामायण कॉन्क्लेव शुभारम्भ अवसर पर  महामहिम राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद द्वारा देश की प्रथम महिला श्रीमती सविता कोविंद, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य, उपमुख्यमंत्री श्री दिनेश शर्मा, प्रभारी मंत्री श्री नीलकन्ठ तिवारी की गरिमामयी उपस्थिति में  भारतीय डाक विभाग और उत्तर प्रदेश शासन के संस्कृति विभाग के अधीन अयोध्या शोध संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में अयोध्या की पारम्परिक रामलीला का मंचन पर विशेष आवरण का विमोचन किया गया l इस अवसर पर महामहिम राष्ट्रपति ने कहा कि रामायण मे भारतीय सभ्यता और संस्कृति के मूल्य समाहित है और वो आज भी समग्र संसार के लिए प्रासंगिक हैं l महामहिम राष्ट्रपति ने आगे कहा कि राम का सम्बन्ध सभी से है और राम सब में बसते हैं l

उत्तर प्रदेश डाक परिमण्डल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा ने बताया कि “वैश्विक स्तर पर अयोध्या की पारम्परिक रामलीला का मंचन” पर विशेष आवरण न सिर्फ देश के भीतर बल्कि वैश्विक स्तर पर भी सांस्कृतिक सन्देशवाहक का कार्य करेगा। रामायण पर जारी डाक टिकटों को इस आवरण पर लगाकर और भी महत्वपूर्ण बनाया गया है। श्री सिन्हा ने यह भी कहा कि डाक टिकट और विशेष आवरण सदैव सांस्कृतिक संदेशवाहक की भूमिका निभाते हैं। ऐसे में इस आवरण से पूरे विश्व में अयोध्या की पारम्परिक रामलीला के मंचन का प्रसार होगा और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा । पीएमजी लखनऊ परिक्षेत्र श्री विवेक कुमार दक्ष ने बताया कि दुनिया भर के डाक टिकट संग्राहकों के लिए यह एक अमूल्य निधि की तरह है।