Breaking News
March 31, 2018 - राजस्थान दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली प्रतिभाओं का सम्मान
March 24, 2018 - प्रदेश में बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम को प्रभावी ढ़ंग से लागू करें
March 24, 2018 - युवा विकास प्रेरक समीक्षा एवं मार्गदर्शन आमजन तक पहुंचाएं गुड गवर्नेंस का लाभ – मुख्यमंत्री
March 24, 2018 - विश्व क्षय दिवस पर प्रधानमंत्री का संदेश
March 21, 2018 - मुख्य सचिव श्री निहाल चंद गोयल ने स्वागत उद्बोधन में ‘ई—गवर्नेंस एवं स्टार्टअप’ पर जोर दिया
March 21, 2018 - राजस्थान डिजी मेला में मुख्यमंत्री ने हैकाथन विजेता को शम्मानित किया
March 21, 2018 - सरकार ने चीनी निर्यात पर सीमा शुल्क को मौजूदा 20 % से घटाकर शून्य किया
March 21, 2018 - राष्ट्रपति कल भारतीय वायु सेना के 51 स्क्वाड्रन को मानक और 230 सिग्नल इकाई को कलर्स प्रदान करेंगे
केन्द्रीय मंत्री श्री विजय गोयल ने राजस्थान सूचना केंद्र के अति निदेशक गोपेन्द्र नाथ भट्ट को किया सम्मानित

केन्द्रीय मंत्री श्री विजय गोयल ने राजस्थान सूचना केंद्र के अति निदेशक गोपेन्द्र नाथ भट्ट को किया सम्मानित

नई दिल्ली,10 जुलाई,2017: केन्द्रीय खेल और युवा मामलों के राज्य मंत्राी (स्वतंत्र प्रभार) श्री विजय गोयल ने राजस्थान सूचना केंद्र के अतिरिक्त निदेशक श्री गोपेन्द्र नाथ भट्ट को नई दिल्ली के एन डी एम सी कन्वेंशन हाल में अणुव्रत महासमिति द्वारा आयोजित राष्ट्रीय अणुव्रत साहित्यकार सम्मेलन में सूचना एवं जनसंपर्क के क्षेत्र में दी गई सुदीर्घ एवं उत्त्कृष्ट सेवाओं के लिए सम्मानित किया।
श्री गोयल ने श्री भट्ट को प्रशस्ति ट्राफी और साहित्य प्रदान कर सम्मानित किया। उन्होंने श्री भट्ट को बधाई देते हुए कहा कि राजस्थान के सांसदों द्वारा संसद में राज्य हित में उठाए जाने वाले मुद्दों के प्रचार प्रसार में वे सराहनीय योगदान दे रहे है। सुप्रसिद्ध हास्य और व्यंग कवि श्री सुरेन्द्र शर्मा समारोह के विशिष्ट अतिथि थे।
इस  मोंके पर जानी मानी साहित्यकार और अणुव्रत साहित्यकार सम्मेलन की सुत्रधार डा कुसुम लुनिया ने बताया कि भट्ट  पिछले 30 वर्षो से लगातार अणुव्रत आंदोलन के प्रचार प्रसार में अपने उल्लेखनीय योगदान के साथ ही अपनी सृजन शक्ति और लेखनी से लोक कल्याणकारी योजनाओं के प्रचार प्रसार और भारतीय संस्कृति को समृद्ध करने में अपूर्व योगदान कर रहे है। भट्ट को आचार्य तुलसी आचार्य महाप्रज्ञ और आचार्य महाश्रमण के निकट सानिध्य में रहने का सौभाग्य व आशीर्वाद भी मिला है।