Breaking News
December 14, 2017 - प्रदेश में कल से राष्ट्रपति का दो दिवसीय दौरा
December 13, 2017 - प्रधानमंत्री कल नौसेना पनडुब्‍बी आईएनएस कलवारी को देश को समर्पित करेंगे 
December 13, 2017 - राजभवन में आयोजित कार्यक्रम में कुम्भ लोगो व ओ0एस0टी0एस0 पोर्टल लाॅन्च किया गया
December 11, 2017 - मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से गरीब वर्ग की बेटियों के हाथों में लगे गी मेंहदी
December 5, 2017 - उ0प्र0 एवं उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्रियों ने गोरखपुर में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद के स्थापना समारोह को सम्बोधित किया
December 4, 2017 - राष्‍ट्रपति कल डॉ. भीमराव अम्‍बेडकर विश्‍वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे 
November 9, 2017 - एक सरप्राइज रिजल्ट की ओर बड़ता हुआ हिमाचल चुनाव
October 27, 2017 - डाक निदेशक श्री केके यादव और उनकी पत्नीआकांक्षा जी ‘शब्द निष्ठा सम्मान’ से सम्मानित हुए
केन्द्रीय मंत्री श्री विजय गोयल ने राजस्थान सूचना केंद्र के अति निदेशक गोपेन्द्र नाथ भट्ट को किया सम्मानित

केन्द्रीय मंत्री श्री विजय गोयल ने राजस्थान सूचना केंद्र के अति निदेशक गोपेन्द्र नाथ भट्ट को किया सम्मानित

नई दिल्ली,10 जुलाई,2017: केन्द्रीय खेल और युवा मामलों के राज्य मंत्राी (स्वतंत्र प्रभार) श्री विजय गोयल ने राजस्थान सूचना केंद्र के अतिरिक्त निदेशक श्री गोपेन्द्र नाथ भट्ट को नई दिल्ली के एन डी एम सी कन्वेंशन हाल में अणुव्रत महासमिति द्वारा आयोजित राष्ट्रीय अणुव्रत साहित्यकार सम्मेलन में सूचना एवं जनसंपर्क के क्षेत्र में दी गई सुदीर्घ एवं उत्त्कृष्ट सेवाओं के लिए सम्मानित किया।
श्री गोयल ने श्री भट्ट को प्रशस्ति ट्राफी और साहित्य प्रदान कर सम्मानित किया। उन्होंने श्री भट्ट को बधाई देते हुए कहा कि राजस्थान के सांसदों द्वारा संसद में राज्य हित में उठाए जाने वाले मुद्दों के प्रचार प्रसार में वे सराहनीय योगदान दे रहे है। सुप्रसिद्ध हास्य और व्यंग कवि श्री सुरेन्द्र शर्मा समारोह के विशिष्ट अतिथि थे।
इस  मोंके पर जानी मानी साहित्यकार और अणुव्रत साहित्यकार सम्मेलन की सुत्रधार डा कुसुम लुनिया ने बताया कि भट्ट  पिछले 30 वर्षो से लगातार अणुव्रत आंदोलन के प्रचार प्रसार में अपने उल्लेखनीय योगदान के साथ ही अपनी सृजन शक्ति और लेखनी से लोक कल्याणकारी योजनाओं के प्रचार प्रसार और भारतीय संस्कृति को समृद्ध करने में अपूर्व योगदान कर रहे है। भट्ट को आचार्य तुलसी आचार्य महाप्रज्ञ और आचार्य महाश्रमण के निकट सानिध्य में रहने का सौभाग्य व आशीर्वाद भी मिला है।