Breaking News
March 31, 2018 - राजस्थान दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली प्रतिभाओं का सम्मान
March 24, 2018 - प्रदेश में बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम को प्रभावी ढ़ंग से लागू करें
March 24, 2018 - युवा विकास प्रेरक समीक्षा एवं मार्गदर्शन आमजन तक पहुंचाएं गुड गवर्नेंस का लाभ – मुख्यमंत्री
March 24, 2018 - विश्व क्षय दिवस पर प्रधानमंत्री का संदेश
March 21, 2018 - मुख्य सचिव श्री निहाल चंद गोयल ने स्वागत उद्बोधन में ‘ई—गवर्नेंस एवं स्टार्टअप’ पर जोर दिया
March 21, 2018 - राजस्थान डिजी मेला में मुख्यमंत्री ने हैकाथन विजेता को शम्मानित किया
March 21, 2018 - सरकार ने चीनी निर्यात पर सीमा शुल्क को मौजूदा 20 % से घटाकर शून्य किया
March 21, 2018 - राष्ट्रपति कल भारतीय वायु सेना के 51 स्क्वाड्रन को मानक और 230 सिग्नल इकाई को कलर्स प्रदान करेंगे
फरियादियों के प्रार्थना पत्रों पर शीघ्रता से कार्रवाई करने के निर्देश

फरियादियों के प्रार्थना पत्रों पर शीघ्रता से कार्रवाई करने के निर्देश

लखनऊ: 07  अप्रैल, 2017 :उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने प्रतिदिन की भांति आज भी अपने सरकारी आवास पर बड़ी संख्या मंे आए लोगों की समस्याएं सुनीं। उन्होंने अधिकारियों को फरियादियों के प्रार्थना पत्रों पर शीघ्रता से कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अधिकारी जनता के प्रति संवेदनशील बनें तथा उनकी समस्याओं के समाधान के लिए तत्परता से काम करें।
UP CM
इस मौके पर लखनऊ के गोमतीनगर से आयीं सुश्री रचना पाण्डेय ने मुख्यमंत्री को मकान से कब्जा हटवाने का प्रार्थना पत्र दिया। गाजियाबाद से आयीं सुश्री शौर्य सिरोही ने मुख्यमंत्री से शिक्षिका के रूप में चयन के बाद नियुक्ति पत्र निर्गत न किए जाने की शिकायत करते हुए नियुक्ति पत्र जारी किए जाने का अनुरोध किया। लखनऊ से आए संविदा स्वास्थ्य कर्मियों के एक प्रतिनिधिमण्डल ने श्री योगी से उन्हें नियमित किए जाने की मांग की। मुख्यमंत्री ने सभी मामलों में त्वरित कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
ज्ञातव्य है कि प्रदेश के दूर-दराज क्षेत्रों से आए लोगों ने अपनी विभिन्न समस्याओं से सम्बन्धित आवेदन पत्र मुख्यमंत्री को स्वयं दिए। आज के कार्यक्रम में प्राप्त प्रार्थना पत्रों में लोगों ने आर्थिक सहायता, विद्युत आपूर्ति, आवास आवंटन, पेयजल, अवैध कब्जे, पेंशन, राजस्व, भू-अभिलेखों में अनियमितता, शादी अनुदान, फर्जी मुकदमे, नौकरी, इलाज आदि से सम्बन्धित समस्याओं का उल्लेख किया। मुख्यमंत्री ने सभी प्रकरणों को ध्यानपूर्वक सुना और इस सम्बन्ध में आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए।