Breaking News
October 3, 2018 - जयपुर की द्रव्यवती नदी हुई पुनर्जीवित
September 30, 2018 - सरकारें राजभाषा और राष्ट्रभाषा पर सिर्फ राजनीति कर सकती है हिन्दी को समृद नही कर सकती – डॉ ओमप्रकाश सिंह
June 29, 2018 - डाक विभाग द्वारा माउन्ट आबू में ‘फिलेटलिक सेमिनार’ व ‘ढाई आखर’ पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन
June 29, 2018 - स्वामी सहजानन्द सरस्वती: शायद इतिहास खुद को नहीं दुहरा पाएगा!-गोपाल जी राय
June 18, 2018 - नीति आयोग की बैठक में CM योगी बोले हमारी सरकार “सबका साथ, सबका विकास” के सिद्धांत पर काम कर रही है
June 18, 2018 - उपराष्ट्रपति आज श्री अटल विहारी बाजपाई से मिलने AIIMS पहुचे
March 31, 2018 - राजस्थान दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली प्रतिभाओं का सम्मान
March 24, 2018 - प्रदेश में बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम को प्रभावी ढ़ंग से लागू करें
एक लाख छात्रों के साथ होगा गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर जी का परस्पर संवाद

एक लाख छात्रों के साथ होगा गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर जी का परस्पर संवाद

कोटा, जनवरी 12: विश्व प्रसिद्ध आध्यात्मिक गुरु और आर्ट ऑफ़ लिविंग के संस्थापक गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर 15 जनवरी को कोटा, राजस्थान में ‘उत्साह’ नामक एक विशेष समारोह में लगभग 100,000 छात्रों की सभा को संबोधित करेंगे।

ऐसा पहली बार हो रहा है कि छात्रों का इतना विशाल जनसमूह किसी आध्यात्मिक गुरु के साथ सीधे बातचीत करेगा, गुरुदेव छात्रों को एक ध्यान निर्देशित करायेंगे और उनके साथ प्रश्नोत्तर करेंगे।

इस आयोजन में राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी भाग लेंगी, और प्रसिद्ध गायकविक्रम हाजरा के साथ एक विशेष रॉक सत्संग होगा।

art of living 3

यह आयोजन एक 6 महीने के लंबे-अभियान ‘स्प्रेडिंग स्माइल्स, कोटा’का समापन है जसके अतर्गत 80,000 छात्रों ने ध्यान की तकनीकों को सीखा। आर्ट ऑफ़ लिविंग के तत्वाधान में इस मुहिम को  प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों में बढ़ते तनाव के स्तर को घटाने के लिए प्रारम्भ किया गया था। कोटा, भारत की एक महत्वपूर्ण कोचिंग राजधानी, जिसमें अधिकाँश छात्रों की आबादी है। ध्यान के अलावा 6,000 से अधिक छात्रों ने आर्ट ऑफ़ लिविंग की शक्तिशाली लयबद्ध सांस लेने की तकनीक सुदर्शन क्रिया भी सीख ली है।

जुलाई 2016 में शुरू करे गए इस अभियान की ज़िम्मेदारी आर्ट ऑफ़ लिविंग के स्वयंसेवकों और प्रशिक्षकों के टीम ने ली जो कि स्वयं डॉक्टर, इंजीनियरया किसी अच्छे पेशे के साथ खुद जुड़े हुए हैं और छात्रों को चुनौतियों का सामना करने के लिए उन्हें तैयार करा।

अधिकांश छात्रों ने सिखाई गयी तकनीकों के अभ्यास करने के बाद अधिक एकाग्रता, मन में स्पष्टता, आत्मविश्वास में वृद्धि, बेहतर नींद, और शारीरिक ऊर्जा में सुधार होने का अनुभव बताया।

आई.आई.टी. की तैयारी कर रहे  उत्तर प्रदेश के प्रद्युम्न कुमार ने बताया कि इस तकनीक से उन्हें मन में शान्ति का अनुभव किया और उनकी पढ़ाई के रिज़ल्ट में सुधार हुआ है। एम.बी.बी.एस. प्रवेश परीक्षा के लिए कोचिंग कर रही बिहार की शहज़ादी प्रवीन ने बताया कि “न केवल कार्यक्रम से मेरी पढ़ाई में एकाग्रता की वृद्धि हुई, बल्कि अपने दैनिक कार्यों को भी मैं अधिक कार्यकुशलता से कर पा रही हूँ और इसने मुझे परेशानियों का सामना करने का आत्मविश्वास दिया है”।

 art of living 2

मनीषा कुमारी सिंह ने बताया, “सुदर्शन क्रिया ने मेरे सोने के गड़बड़ पैटर्न को सही किया और मेरे विलम्ब से काम करने और आलस्य की प्रवृत्ति से छुटकारा दिया”।

गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर जनवरी 14को कोटा पहुँचेंगे जहां वे कुछ संस्थान निर्देशकों के साथ बातचीत करेंगे और शहर में एक सत्संग में भाग लेंगे। जनवरी 15को ‘उत्साह’ आयोजन के बादगुरुदेव जयपुर के लिए रवाना होंगे जहां वे कुछ किसानों और गांव प्रमुखों के साथ बातचीत करेंगे और फिर फिक्की लेडीज विंग द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेंगे।

‘स्प्रेडिंग स्माइल्स, कोटा अभियान के प्रमुख अंश :

  • 20 से अधिक पूर्णकालिक स्वयंसेवकों और शिक्षकों की टीम इसमें शामिल थी।
  • 80,000 छात्रों ने हॉस्टल और कक्षाओं में ध्यान का अनुभव किया।
  • 6000 छात्रों ने हैप्पीनेस प्रोग्राम किया।
  • एक प्रमुख कोचिंग संस्थान’रेज़ोनेन्स’ के 110अध्यापकों ने हैप्पीनेस प्रोग्राम किया।
  • 6 बड़े सत्संगों में 14000 छात्रों ने भाग लिया।
  • 15 अगस्त को सरकार द्वारा प्रायोजित देशभक्ति संगीत कार्यक्रम “देश मेरे” में 800 वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों, उद्योगपतियों, राजनेताओं और संस्थान शिक्षकों ने भाग लिया।