Breaking News
December 14, 2017 - प्रदेश में कल से राष्ट्रपति का दो दिवसीय दौरा
December 13, 2017 - प्रधानमंत्री कल नौसेना पनडुब्‍बी आईएनएस कलवारी को देश को समर्पित करेंगे 
December 13, 2017 - राजभवन में आयोजित कार्यक्रम में कुम्भ लोगो व ओ0एस0टी0एस0 पोर्टल लाॅन्च किया गया
December 11, 2017 - मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से गरीब वर्ग की बेटियों के हाथों में लगे गी मेंहदी
December 5, 2017 - उ0प्र0 एवं उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्रियों ने गोरखपुर में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद के स्थापना समारोह को सम्बोधित किया
December 4, 2017 - राष्‍ट्रपति कल डॉ. भीमराव अम्‍बेडकर विश्‍वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे 
November 9, 2017 - एक सरप्राइज रिजल्ट की ओर बड़ता हुआ हिमाचल चुनाव
October 27, 2017 - डाक निदेशक श्री केके यादव और उनकी पत्नीआकांक्षा जी ‘शब्द निष्ठा सम्मान’ से सम्मानित हुए
राजस्थान राज्य सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर भरतपुर जिले को कई सौगातें   

राजस्थान राज्य सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर भरतपुर जिले को कई सौगातें   

नई दिल्ली, 06 जनवरी, 2017। राजस्थान की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा है कि राजस्थान विकास की बुलंदियां छू रहा है, यह बात कुछ लोगों को पसंद नहीं आ रही है इसलिए वे प्रदेश में लोगों को लड़ाकर माहौल खराब कर रहे हैं। लेकिन प्रदेश की जनता उनके इन इरादों को कभी पूरा नहीं होने देगी, क्योंकि अब प्रदेशवासी जान गये हैं कि जहां अशांति है, वहां विकास संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि लोग चाहे जो कहते रहें, कड़ी चुनौतियों के बावजूद प्रदेश विकास के रास्ते पर आगे बढ़ता रहेगा।
श्रीमती राजे राज्य सरकार के तीन वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर भरतपुर के लोहागढ़ स्टेडियम में विभिन्न विकास परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास समारोह को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि विकास के लिए तीन वर्ष की अवधि कम होती है, लेकिन हमने प्रदेशवासियों की कसौटी पर खरा उतरने का प्रयास किया है और विकसित प्रदेशों की श्रेणी में आ खडे़ हुए हैं।
कैशलेस इकोनोमी को बढ़ावा देने में भी राजस्थान अग्रणी
मुख्यमंत्री श्रीमती राजे ने कहा कि प्रदेश में 23 हजार माइक्रो एटीएम, 40 हजार ई-मित्र केन्द्रों, पोस मशीनों आदि के माध्यम से कैशलेस इकोनोमी को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। 70 विभागों की 270 से अधिक सेवाएं डिजिटलाइज्ड हो गई हैं। उन्होंने कहा कि हाल ही में प्रधानमंत्री ने अजमेर जिले को कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए देश के प्रथम पांच जिलों में शामिल होने के लिए सम्मानित किया है।
गुड़गांव केनाल के लिए 71 करोड़ रुपये की योजना     
मुख्यमंत्री ने कहा कि गुड़गांव केनाल और भरतपुर फीडर का सुदृढ़ीकरण कार्य वर्षों से लम्बित है, जिसके चलते इस क्षेत्र में सिंचाई व्यवस्था प्रभावित हुई है। उन्होंने सवाल किया कि पिछली सरकारों ने 60 वर्षों से प्रदेश के किसानों के हित में यह कार्य क्यों नहीं किया। उन्होंने गुड़गांव केनाल के सिंचाई तंत्र सुदृढीकरण के लिए 71 करोड़ रुपये की योजना की घोषणा की। भरतपुर फीडर नहर के सिंचाई तंत्र के लिए 45 करोड़ रुपये की योजना अलग से बनाई जायेगी।
ब्रज चौरासी परिक्रमा पर अब 200 करोड़ रुपये होंगे खर्च     
श्रीमती राजे ने खेड़ली से पहाड़ी स्टेट हाइवे के लिए 106 करोड़ रुपये, गोवर्धन तक जाने वाली सड़क के लिए 36 करोड़ रुपये तथा ब्रज चौरासी परिक्रमा मार्ग में सड़क के लिए 200 करोड़ रुपये की योजना की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य बजट में परिक्रमा मार्ग के लिए 100 करोड़ रुपये की राशि घोषित की गई थी।     मुख्यमंत्री ने कहा कि झिरका फिरोजपुर से करौली मंडरायल तक नये राष्ट्रीय राजमार्ग की डीपीआर तैयार करवाई जा रही है और शीघ्र ही इस पर काम शुरू करवा दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि कामां के मंदिरों सहित जिले के प्रमुख मंदिरों जीर्णोद्धार का कार्य भी शीघ्र शुरू किया जायेगा।
सुजानगंगा के विकास के लिए केन्द्र से करेंगे बात 
मुख्यमंत्री ने कहा कि सुजानगंगा का पुनरूद्धार कार्य बहुत समय से लम्बित है, क्योंकि यह स्थान अभी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के अधीन है। हम केन्द्र सरकार से बात कर उसे राज्य सरकार को हस्तांतरित करवाने का प्रयास कर रहे हैं। उसके बाद सुजानगंगा का भी सूरसागर की तर्ज पर कायाकल्प किया जायेगा। उन्होंने कहा कि 21 जनवरी से शुरू होने वाले शहरी जनकल्याण शिविरों के माध्यम से भूखण्डों एवं मकानों का नियमन एवं पट्टे जारी करने का कार्य किया जायेगा। इस दौरान मौके पर ही समस्याओं का समाधान करने के लिए नगर निकायों की शक्तियां एम्पावर्ड कमेटी को दी जायेगी।
भरतपुर से है विशेष लगाव    
मुख्यमंत्री ने कहा कि भरतपुर शहर से हमारा विशेष लगाव है इसीलिए पिछले कार्यकाल में हमारी सरकार ने भरतपुर के महत्व और मांग को देखते हुए यहां संभाग मुख्यालय बनाया था। इस बार भी सरकार बनते ही सबसे पहले ’सरकार आपके द्वार’ अभियान की शुरूआत यहीं से की गई। उन्होंने कहा कि इस जिले के लोगों ने अपने दम पर देश में अपनी पहचान बनाई है।
जल स्वावलम्बन में शामिल होंगी भरतपुर और डीग की बावड़ियां 
श्रीमती राजे ने कहा कि मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के पहले चरण की सफलता के बाद अब दूसरा चरण भी शुरू कर दिया गया है। अभियान के तहत बनाए गए परकोलेशन टैंकों के कारण जिले में कई जगहों पर कुओं का जल स्तर बढ़ा है। उन्होंने कहा कि इस बार शहरी क्षेत्रों को भी इस अभियान में शामिल किया गया है। भरतपुर जिले में दूसरे चरण के दौरान 165 गांवों में 1868 कार्य तथा भरतपुर एवं डीग शहरों में पुरानी बावड़ियों के विकास के 17 कार्य करवाए जाएंगे।
तीन साल में 11 लाख 75 हजार युवाओं को रोजगार के अवसर
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने तीन वर्ष में प्रदेश के 11 लाख 75 हजार युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए हैं, जिनमें से एक लाख से अधिक सरकारी नौकरियां हैं। दूसरी तरफ पूर्ववर्ती सरकार ने पूरे पांच वर्ष में 6 लाख 90 हजार रोजगार ही उपलब्ध करवाए। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने तीन वर्षों में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य पर 7 हजार 209 करोड़ रुपये खर्च किए, जबकि पूर्ववर्ती सरकार पांच वर्षों में 6 हजार 546 करोड़ रुपये ही खर्च कर सकी। हमने किसानों को तीन साल में 45 हजार 691 करोड़ रुपये के ऋण वितरित किए हैं, जबकि गत सरकार ने पूरे 5 वर्षो में केवल 43 हजार करोड़ रुपये के ऋण वितरित किए थे। पशुपालन के क्षेत्र में हमने तीन वर्ष में ही 295 करोड़ रुपये खर्च किए, जबकि गत सरकार पांच वर्ष में 323 करोड़ रुपये खर्च कर सकी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने शिक्षा के क्षेत्र में जो व्यापक सुधार किए उनका नतीजा है कि आज सरकारी स्कूलों में 13 लाख से अधिक बच्चों का नामांकन बढ़ गया है। बच्चों का 10वीं कक्षा में पास प्रतिशत 58 से बढ़कर 72 फीसदी हो गया है।
भरतपुर के विकास पर 4 हजार करोड़ रुपए हुए व्यय     
श्रीमती राजे ने कहा कि हमने अपने कार्यकाल के तीन वर्षों में भरतपुर जिले में करीब 4 हजार करोड़ रुपये के विकास कार्य किए हैं। उन्होंने बजट घोषणाओं का जिक्र करते हुए कहा कि हमने भरतपुरवासियों से जो वादे किए थे उनमें से काफी पूरे कर दिए हैं तथा शेष को पूरा करने की दिशा में काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि भरतपुर में नगर निगम बनाने का वादा हमने पूरा किया है। अब भरतपुर में मेडिकल कॉलेज का निर्माण कार्य भी शीघ्र ही पूरा हो जायेगा। उन्होंने कहा कि वैर किला तथा सफेद महल का जीर्णोद्धार भी शीघ्र पूरा हो जाएगा।
जिले में सड़कों के विकास पर खर्च हुए 1737 करोड़
मुख्यमंत्री ने कहा कि भरतपुर-बयाना-हिण्डौन-गंगापुर सिटी सड़क का 340 करोड़ रुपये, भरतपुर-डीग-अलवर का 136 करोड़ रुपये तथा बाड़ी-बसेड़ी-वैर-खेडली सड़क का 306 करोड़ रुपये तथा भतरपुर-मथुरा आरओबी के 14 करोड़ रुपये के विकास कार्यों सहित जिले में 1737 करोड़ रुपये तो केवल सड़कों पर खर्च किए गए हैं। उन्होंने कहा कि न्याय आपके द्वार अभियान के अंतर्गत भरतपुर जिले में ही दो वर्षों में 4 लाख 85 हजार से ज्यादा प्रकरणों का निस्तारण किया गया।
श्रीमती राजे ने कहा कि भरतपुर जिले में भामाशाह योजना के तहत अब तक 5 लाख 50 हजार परिवारों के नामांकन तथा करीब 20 लाख व्यक्तिगत नामांकन हुए हैं। उन्होंने कहा कि अब संभागीय मुख्यालयों पर भी ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट का आयोजन किया जायेगा।
सुराज प्रदर्शनी एवं आरोग्य मेला का किया उद्घाटन 
श्रीमती राजे ने राज्य सरकार के तीन वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में जिला प्रशासन तथा सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया। उन्होंने आरोग्य मेला, कैंसर जागरूकता शिविर तथा रोजगार मेले का उद्घाटन भी किया। उन्होंने समारोह के दौरान राज्य तथा केन्द्र सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों को सहायता राशि तथा जिले के प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया। उन्होंने जिला विकास पुस्तिका का लोकार्पण भी किया।
विकास कार्यों का शिलान्यास एवं लोकार्पण
श्रीमती राजे ने समारोह स्थल पर 21 करोड़ 11 लाख रुपए के छह विकास कार्यों का लोकार्पण तथा शिलान्यास किया।
लोकार्पण/उद्घाटन लागत 
1- डीईआईसी भवन जनाना चिकित्सालय, भरतपुर 75 लाख रूपये,
2- शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तिलक नगर 75 लाख रूपये,
3- विद्यालय सुदृढ़ीकरण राउमावि, चिकसाना 55.63 लाख रूपये,
4- विद्यालय सुदृढ़ीकरण राउमावि महलपुर कांछी 57.45 लाख रूपये,
शिलान्यास- 
1- मुख्यमंत्री जन आवास योजना 2015, नगर विकास न्यास, भरतपुर 12.48 करोड रूपये ़,
2-भरतपुर अछनेरा सड़क 6 करोड़ कुल 21.11 करोड़ रूपये,
रारह पंचायत बनी कैशलेस 
मुख्यमंत्री के आगमन पर भरतपुर की रारह ग्राम पंचायत के कैशलेस होने की घोषणा की गई। उन्होंने इस अवसर पर रारह ग्राम पंचायत की वेबसाइट भी लॉन्च की। श्रीमती राजे ने भरतपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में बेटी के जन्म पर 5 फलदार पौधे लगाने की राजश्री उपवन योजना की शुरूआत भी की। श्रीमती राजे ने गुरू गोविन्द सिंह जी के 350 वें प्रकाशोत्सव पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं भी दीं। समारोह के बाद मुख्यमंत्री ने आमजन के बीच जाकर अभाव-अभियोग सुने।
बीसूका उपाध्यक्ष डॉ. दिगम्बर सिंह ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि उन्होंने भरतपुर को राजस्थान में 7वें नम्बर का शहर बनाने के साथ-साथ मेडिकल कॉलेज, महाराजा सूरजमल के नाम पर ब्रज विश्वविद्यालय तथा इंजीनियरिंग कॉलेज जैसी सौगातें दी हैं। इनके लिए जिले की जनता श्रीमती राजे की आभारी हैं। कार्यक्रम को पर्यटन राज्य मंत्री श्रीमती कृष्णेन्द्र कौर दीपा ने भी सम्बोधित किया।
इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री अरूण चतुर्वेदी, बीसूका उपाध्यक्ष, डॉ. दिगम्बर सिंह, पर्यटन राज्य मंत्री श्रीमती कृष्णेन्द्र कौर दीपा, ऊर्जा राज्यमंत्री श्री पुष्पेन्द्र सिंह राणावत, सांसद श्री बहादुर सिंह कोली, विधायक श्री विजय बंसल, श्रीमती अनिता सिंह, श्री जगत सिंह, श्री बच्चू वंशीवाल, जिला प्रमुख श्रीमती बीना सिंह, नगर निगम महापौर श्री शिवसिंह भौट सहित अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारीगण एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।