Breaking News
December 14, 2017 - प्रदेश में कल से राष्ट्रपति का दो दिवसीय दौरा
December 13, 2017 - प्रधानमंत्री कल नौसेना पनडुब्‍बी आईएनएस कलवारी को देश को समर्पित करेंगे 
December 13, 2017 - राजभवन में आयोजित कार्यक्रम में कुम्भ लोगो व ओ0एस0टी0एस0 पोर्टल लाॅन्च किया गया
December 11, 2017 - मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से गरीब वर्ग की बेटियों के हाथों में लगे गी मेंहदी
December 5, 2017 - उ0प्र0 एवं उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्रियों ने गोरखपुर में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद के स्थापना समारोह को सम्बोधित किया
December 4, 2017 - राष्‍ट्रपति कल डॉ. भीमराव अम्‍बेडकर विश्‍वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे 
November 9, 2017 - एक सरप्राइज रिजल्ट की ओर बड़ता हुआ हिमाचल चुनाव
October 27, 2017 - डाक निदेशक श्री केके यादव और उनकी पत्नीआकांक्षा जी ‘शब्द निष्ठा सम्मान’ से सम्मानित हुए
गृहमंत्री ने जैसलमेर में भारत-पाक सीमा को सील करने के लिए बुलाई गयी बैठक की अध्यक्षता की

गृहमंत्री ने जैसलमेर में भारत-पाक सीमा को सील करने के लिए बुलाई गयी बैठक की अध्यक्षता की

 
गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने जैसलमेर, राजस्थान में भारत–पाक सीमा को सील करने के संबंध में आज एक बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में राजस्थान, पंजाब, गुजरात और जम्मू-कश्मीर के मुख्य मंत्रियों/गृह मंत्रियों ने हिस्सा लिय़ा।बैठक का उद्घाटन करते हुए श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान के साथ लगने वाली अंतर्राष्ट्रीय सीमा की सुरक्षा के लिए सभी राज्य सक्रिय भागीदारी करें।

श्री राजनाथ सिंह ने गृह मंत्रालय, सीमा सुरक्षा बल और बैठक में हिस्सा लेने वाले राज्यों से कहा कि वे संरचना परियोजनाओं के शीध्र क्रियान्वयन, कारगर निगरानी, गोपनीय सूचनाओं के आदान-प्रदान और एजेंसियों के बीच सहयोग को बढ़ायें, ताकि देश में मौजूद वर्तमान सुरक्षा परिदृश्य के अनुरूप काम किया जा सके। उन्होंने बैठक में हिस्सा लेने वाले सभी पक्षों से आग्रह किया कि वे इस संबंध में सुझाव भी दें।

गृह मंत्रालय ने एक प्रस्तुति भी दी और बैठक में मौजूद सभी पक्षों ने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की और अपने मूल्यवान सुझाव दिये।

राजस्थान की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे ने पुलिस आधुनिकीकरण, अंदरूनी इलाकों में सुरक्षा और सघन रेगिस्तान में दूर-दूर तक आबादी कम होने के कारण उत्पन्न समस्याओं को उठाया। उन्होंने सुझाव दिया कि मुनाबाओ में एकीकृत चैक पोस्ट बनाई जाये। पंजाब के उप मुख्य मंत्री श्री सुखबीर सिंह बादल ने राज्य के उन किसानों की समस्या की तरफ ध्यान आकर्षित किया जिनकी जमीनें सीमा के निकट हैं। उन्होंने पाकिस्तान से हथियारों और नशीले पदार्थों की तस्करी की समस्या भी उठाई।

गुजरात के गृह राज्य मंत्री श्री प्रदीप सिंह बी जडेजा ने कहा कि कच्छ की रान के जिन दलदली इलाकों में बाढ़ लगानी संभव नही है, वहां सड़क निर्माण को दुरुस्त करने और निगरानी करने के लिए प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल की जरूरत है।

केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री श्री किरेन रिजिजू ने सीमा स्थिति के प्रंबंधन पर अपने विचार रखे।

बैठक में तय किया गया कि केन्द्र और राज्य सरकारें सीमाओं की कारगर सुरक्षा के लिए जल्द से जल्द सभी समस्याओं को हल कर लेंगे।

श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि बैठक में हिस्सा लेने वाले सभी पक्षों के सुझाव बहुत उपयोगी हैं और सरकार नीति बनाते समय इनका ध्यान रखेगी।

बैठक में राजस्थान के गृह मंत्री श्री गुलाब चन्द कटारिया, केन्द्रीय गृह सचिव श्री राजीव महर्षि, गृह मंत्रालय में सचिव (सीमा प्रबंधन) श्री सुशील कुमार, सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक श्री के के शर्मा, राज्यों के प्रमुख सचिवों और पुलिस महानिदेशकों तथा गृह मंत्रालय, सीमा सुरक्षा बल और सीपीडब्ल्यूडी के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया।