Breaking News
April 18, 2019 - डाक विभाग को सर्वाधिक व्यवसाय देने वाले संस्थानों को डाक निदेशक केके यादव ने किया सम्मानित 
April 14, 2019 - साहित्यकार व ब्लॉगर आकांक्षा यादव  “स्त्री अस्मिता सम्मान-2019” से  सम्मानित
December 31, 2018 - आम आदमी के हित चिंतक थे लोकबंधु राजनारायण : गोपाल जी राय, लेखक व विचारक
December 31, 2018 - सरकार ने एमआईजी योजना के लिए सीएलएसएस की अवधि 31 मार्च, 2020 तक बढ़ाई
December 17, 2018 - गोपाल जी राय को विद्या सागर सम्मान
December 17, 2018 - श्री अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री एवं श्री सचिन पायलट ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
December 4, 2018 - डाक निदेशक केके यादव ने किया दर्पण कोर सिस्टम इंटीग्रेटर का शुभारम्भ
October 3, 2018 - जयपुर की द्रव्यवती नदी हुई पुनर्जीवित
गोमती रिवर फ्रन्ट के दोनों किनारों में हरियाली लाने हेतु : मुख्य सचिव श्री दीपक सिंघल

गोमती रिवर फ्रन्ट के दोनों किनारों में हरियाली लाने हेतु : मुख्य सचिव श्री दीपक सिंघल

लखनऊ: 27 जुलाई, 2016: उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव श्री दीपक सिंघल ने निर्देश दिये हैं कि गोमती रिवर फ्रन्ट के दोनों किनारों में हरियाली लाने हेतु आवश्यकतानुसार प्लान्टेशन का कार्य 15 अगस्त तक सुनिश्चित करा लिया जाये। प्लान्टेशन के कार्य हेतु सम्बन्धित सिंचाई विभाग को सेक्टरवार एक-एक सहायक अभियन्ता और अवर अभियन्ता की जिम्मेदारी नियत कर विभागीय नोडल अधिकारी नामित करना होगा। उन्होंने वृक्षारोपण कार्य को सुचारू रूप से सम्पादित कराने हेतु जिलाधिकारी लखनऊ को नोडल अधिकारी नामित करते हुये निर्देश दिये कि प्लाण्टेशन कार्य करने वाली एजेंसी एवं सिंचाई विभाग के अधिकारियों के मध्य समन्वय स्थापित कराकर आवश्यकतानुसार वृक्षारोपण का कार्य पूर्ण करायें। उन्होंने विभागाध्यक्ष सिंचाई की जिम्मेदारी नियत करते हुये निर्देश दिये कि गोमती रिवर फ्रन्ट में रबर डैम प्लान्ट को 15 सितम्बर तक प्रत्येक दशा में चालू हो जाना चाहिये। उन्होंने प्रमुख सचिव सिंचाई एवं विभागाध्यक्ष सिंचाई को यह भी निर्देश दिये कि गोमती रिवर फ्रन्ट में वल्र्ड स्तर का फाउन्टेन स्थापित कराने हेतु ई0एफ0सी0 द्वारा अनुमोदित परियोजना की लागत के अन्तर्गत ही आवश्यक कार्यवाही प्राथमिकता से सुनिश्चित कराई जाये। उन्होंने गोमती नदी के किनारों को विकसित करने हेतु साइकिल ट्रैक सहित अन्य विकास कार्य प्राथमिकता से कराये जाने के भी निर्देश दिये।
मुख्य सचिव ने आज शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में गोमती रिवर फ्रन्ट के कार्यों की समीक्षा करते हुये प्रमुख अभियन्ता सिंचाई को निर्देश दिये कि गोमती नदी तट विकास हेतु शासन द्वारा अवमुक्त की गई धनराशि में से 30 करोड़ धनराशि जो प्रमुख अभियन्ता, सिंचाई द्वारा रोकी गई, उसमें से मात्र 10 करोड़ रोककर शेष 20 करोड़ धनराशि गोमती नदी परियोजना हेतु तुरन्त मुक्त करते हुए गोमती रिवर फ्रन्ट मंे कार्य कर रहे समस्त वेन्डरों के साथ बैठक कर यह सुनिश्चित करायें कि उनके नियमानुसार अवशेष देयकों का भुगतान आगामी 24 घन्टे के अन्दर सुनिश्चित हो जाये ताकि विकास कार्यों की गति में कोई बाधा न उत्पन्न होने पाये। उन्होंने गोमती नदी में जलकुम्भी हटाने हेतु 15 से 20 बोट अवश्य रखने के साथ-साथ यह भी सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये कि गोमती नदी में शहर का गन्दा पानी कतई न आने पाये।
श्री सिंघल ने गोमती रिवर फ्रन्ट में कराये जा रहे कार्यों को आम जनता तक पहुंचाने हेतु सोशल मीडिया गु्रप अथवा अन्य संसाधनों से भी व्यापक प्रचार-प्रसार कराने के भी निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने हेतु लखनऊ से निर्मित चिकन, हैण्डीफ्राफ्ट आदि के अनुभवी कारीगरों से सम्पर्क कर बेस्ट विजन डाॅक्यूमेन्ट बनाकर विकसित किया जाये। उन्होंने गोमती नदी को पर्यटन के दृष्टिकोण से आकर्षक बनाने तथा आने वाले पर्यटकों के मनोरंजन हेतु उनकी रूचि के अनुसार प्रत्येक माह मनोरंजक कार्यक्रम आयोजित कराने के साथ-साथ एक इन्टरनेशनल हब भी बनाने के निर्देश दिये।
मुख्य सचिव ने ग्रामीण अंचल के प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने हेतु गोमती नदी के किनारे खेल गतिविधियों को बढ़ावा देने के साथ-साथ आगामी 02 अक्टूबर को क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन कराने के भी निर्देश दिये हैं। उन्होंने गोमती रिवर फ्रन्ट के तट पर राउन्ड ईयर कल्चरल प्रोग्राम कराने हेतु सांस्कृतिक कैलेन्डर विकसित करने हेतु 15 दिन के अन्दर विजन ड्राफ्ट प्रस्तुत करने के भी निर्देश दिये हैं।
बैठक में प्रमुख सचिव सूचना एवं पर्यटन श्री नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव आवास श्री सदाकान्त, प्रमुख सचिव सिंचाई श्री सुरेश चन्द्रा, सचिव आवास श्री पंधारी यादव, प्रमुख स्टाफ आफिसर मुख्य सचिव श्री भुवनेश कुमार, जिलाधिकारी लखनऊ श्री राजशेखर, अधीक्षण अभियन्ता सिंचाई श्री रूप सिंह यादव सहित सम्बन्धित विभागों के वरिष्ठ अधिकारीगण एवं वरिष्ठ अभियन्तागण उपस्थित थे।