Breaking News
October 3, 2018 - जयपुर की द्रव्यवती नदी हुई पुनर्जीवित
September 30, 2018 - सरकारें राजभाषा और राष्ट्रभाषा पर सिर्फ राजनीति कर सकती है हिन्दी को समृद नही कर सकती – डॉ ओमप्रकाश सिंह
June 29, 2018 - डाक विभाग द्वारा माउन्ट आबू में ‘फिलेटलिक सेमिनार’ व ‘ढाई आखर’ पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन
June 29, 2018 - स्वामी सहजानन्द सरस्वती: शायद इतिहास खुद को नहीं दुहरा पाएगा!-गोपाल जी राय
June 18, 2018 - नीति आयोग की बैठक में CM योगी बोले हमारी सरकार “सबका साथ, सबका विकास” के सिद्धांत पर काम कर रही है
June 18, 2018 - उपराष्ट्रपति आज श्री अटल विहारी बाजपाई से मिलने AIIMS पहुचे
March 31, 2018 - राजस्थान दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली प्रतिभाओं का सम्मान
March 24, 2018 - प्रदेश में बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम को प्रभावी ढ़ंग से लागू करें
अरुण जेटली ने गांधी के संग्रहित कार्यों के इलैक्‍ट्रोनिक संस्‍करण का शुभारंभ किया

अरुण जेटली ने गांधी के संग्रहित कार्यों के इलैक्‍ट्रोनिक संस्‍करण का शुभारंभ किया

वित्‍त, कारपोरेट मामले और सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्री अरुण जेटली ने आज गांधी शांति प्रतिष्‍ठान में महात्‍मा गांधी के संग्रहित कार्यों के इलैक्‍ट्रोनिक संस्‍करण का शुभारंभ किया। यह 1884 से 30 जनवरी 1948 तक गांधीजी द्वारा हर दिन बोली और लिखी गई बातों का स्‍मारक दस्‍तावेज है। मंत्री महोदय ने इस संस्‍करण को प्रामाणिक गांधीवाद के व्‍यापक संग्रह-  गांधी विरासत पोर्टल पर भी अपलोड किया। विश्‍व के लोगों के लिए महात्‍मा गांधी के संग्रहित कार्यों तक सरल और मुफ्त पहुंच सुनिश्चित करने के लिए ई-सीडब्‍ल्‍यूएमजी इस पोर्टल पर पीडीएफ रूप में उपलब्‍ध है। इस अवसर पर श्री जेटली ने यह भी घोषणा की कि संपूर्ण गांधी वांड्गमय के इस स्‍मारक संस्‍मरण के हिन्‍दी संस्‍करण का जल्‍दी ही डिजिटीकरण किया जाएगा। इस अवसर पर सूचना एवं प्रसारण राज्‍यमंत्री कर्नल राज्‍यवर्द्धन सिंह राठौर, सूचना एवं प्रसार सचिव श्री सुनील अरोड़ा और विशेषज्ञ समिति के सदस्‍य

इस अवसर पर श्री जेटली ने कहा कि ई-सीडब्‍ल्‍यूएमजी परियोजना के यर्थाथ और विरासत के आदर्श के सहयोगी और साझेदार ऐसे संस्‍थान हैं जिन्‍हें गांधीजी ने स्‍थापित और विकसित किया था। जेटली ने कहा कि महात्‍मा गांधी के संग्रहित कार्यों के डिजिटल संस्‍करण, अमूल्‍य राष्‍ट्रीय  विरासत के संरक्षण और मानवता के प्रसार में सहायक होगा।