Breaking News
March 31, 2018 - राजस्थान दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली प्रतिभाओं का सम्मान
March 24, 2018 - प्रदेश में बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम को प्रभावी ढ़ंग से लागू करें
March 24, 2018 - युवा विकास प्रेरक समीक्षा एवं मार्गदर्शन आमजन तक पहुंचाएं गुड गवर्नेंस का लाभ – मुख्यमंत्री
March 24, 2018 - विश्व क्षय दिवस पर प्रधानमंत्री का संदेश
March 21, 2018 - मुख्य सचिव श्री निहाल चंद गोयल ने स्वागत उद्बोधन में ‘ई—गवर्नेंस एवं स्टार्टअप’ पर जोर दिया
March 21, 2018 - राजस्थान डिजी मेला में मुख्यमंत्री ने हैकाथन विजेता को शम्मानित किया
March 21, 2018 - सरकार ने चीनी निर्यात पर सीमा शुल्क को मौजूदा 20 % से घटाकर शून्य किया
March 21, 2018 - राष्ट्रपति कल भारतीय वायु सेना के 51 स्क्वाड्रन को मानक और 230 सिग्नल इकाई को कलर्स प्रदान करेंगे
अरुण जेटली ने गांधी के संग्रहित कार्यों के इलैक्‍ट्रोनिक संस्‍करण का शुभारंभ किया

अरुण जेटली ने गांधी के संग्रहित कार्यों के इलैक्‍ट्रोनिक संस्‍करण का शुभारंभ किया

वित्‍त, कारपोरेट मामले और सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्री अरुण जेटली ने आज गांधी शांति प्रतिष्‍ठान में महात्‍मा गांधी के संग्रहित कार्यों के इलैक्‍ट्रोनिक संस्‍करण का शुभारंभ किया। यह 1884 से 30 जनवरी 1948 तक गांधीजी द्वारा हर दिन बोली और लिखी गई बातों का स्‍मारक दस्‍तावेज है। मंत्री महोदय ने इस संस्‍करण को प्रामाणिक गांधीवाद के व्‍यापक संग्रह-  गांधी विरासत पोर्टल पर भी अपलोड किया। विश्‍व के लोगों के लिए महात्‍मा गांधी के संग्रहित कार्यों तक सरल और मुफ्त पहुंच सुनिश्चित करने के लिए ई-सीडब्‍ल्‍यूएमजी इस पोर्टल पर पीडीएफ रूप में उपलब्‍ध है। इस अवसर पर श्री जेटली ने यह भी घोषणा की कि संपूर्ण गांधी वांड्गमय के इस स्‍मारक संस्‍मरण के हिन्‍दी संस्‍करण का जल्‍दी ही डिजिटीकरण किया जाएगा। इस अवसर पर सूचना एवं प्रसारण राज्‍यमंत्री कर्नल राज्‍यवर्द्धन सिंह राठौर, सूचना एवं प्रसार सचिव श्री सुनील अरोड़ा और विशेषज्ञ समिति के सदस्‍य

इस अवसर पर श्री जेटली ने कहा कि ई-सीडब्‍ल्‍यूएमजी परियोजना के यर्थाथ और विरासत के आदर्श के सहयोगी और साझेदार ऐसे संस्‍थान हैं जिन्‍हें गांधीजी ने स्‍थापित और विकसित किया था। जेटली ने कहा कि महात्‍मा गांधी के संग्रहित कार्यों के डिजिटल संस्‍करण, अमूल्‍य राष्‍ट्रीय  विरासत के संरक्षण और मानवता के प्रसार में सहायक होगा।