Breaking News
December 4, 2018 - डाक निदेशक केके यादव ने किया दर्पण कोर सिस्टम इंटीग्रेटर का शुभारम्भ
October 3, 2018 - जयपुर की द्रव्यवती नदी हुई पुनर्जीवित
September 30, 2018 - सरकारें राजभाषा और राष्ट्रभाषा पर सिर्फ राजनीति कर सकती है हिन्दी को समृद नही कर सकती – डॉ ओमप्रकाश सिंह
June 29, 2018 - डाक विभाग द्वारा माउन्ट आबू में ‘फिलेटलिक सेमिनार’ व ‘ढाई आखर’ पत्र लेखन प्रतियोगिता का आयोजन
June 29, 2018 - स्वामी सहजानन्द सरस्वती: शायद इतिहास खुद को नहीं दुहरा पाएगा!-गोपाल जी राय
June 18, 2018 - नीति आयोग की बैठक में CM योगी बोले हमारी सरकार “सबका साथ, सबका विकास” के सिद्धांत पर काम कर रही है
June 18, 2018 - उपराष्ट्रपति आज श्री अटल विहारी बाजपाई से मिलने AIIMS पहुचे
March 31, 2018 - राजस्थान दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाली प्रतिभाओं का सम्मान
उ0प्र0 प्रदेश सरकार ने खिलाडिय़ों को सम्मानित किया

उ0प्र0 प्रदेश सरकार ने खिलाडिय़ों को सम्मानित किया

उ0प्र0 प्रदेश सरकार खिलाडि़यों को हर तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराने एवं खेल से जुड़ी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है: मुख्यमंत्री सरकार खेलों को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक अवस्थापना सुविधाओं, स्टेडियमों, स्विमिंग पूलों इत्यादि का निर्माण पूरे प्रदेश में करवा रही है मुख्यमंत्री ने लक्ष्मण/रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार से सम्मानित खिलाडि़यों को सम्मानित किया मुख्यमंत्री ने स्पेशल ओलम्पिक वल्र्ड समर गेम्स यू0एस0ए0-2015 के पदक विजेता खिलाडि़यों को भी सम्मानित किया प्रदेश सरकार द्वारा दिए जाने वाले ‘यश भारती’ पुरस्कार से सबसे ज्यादा खिलाडि़यों को ही सम्मानित किया गया अर्जुन पुरस्कार, द्रोणाचार्य पुरस्कार एवं खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित खिलाडि़यों अथवा खेल जगत में उपलब्धियों के दृष्टिगत पद्मश्री एवं पद्म भूषण से सम्मानित खिलाडि़यों को 20 हजार रु0 प्रतिमास की पेंशन उपलब्ध कराने का शासनादेश जारी लखनऊ: 29 अगस्त, 2015 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार खिलाडि़यों को हर तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराने एवं खेल से जुड़ी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकारें सदैव ही खिलाडि़यों का उत्साहवर्द्धन और समर्थन करती रही हैं और वर्तमान सरकार भी इससे अछूती नहीं है। सरकार खेलों को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक अवस्थापना सुविधाओं, स्टेडियमों, स्विमिंग पूलों इत्यादि का निर्माण पूरे प्रदेश में करवा रही है, ताकि खिलाडि़यों को अपने कौशल को निखारने का पूरा अवसर मिले। साथ ही, उन्हें अपने खेल में उत्कृष्टता पाने के लिए अच्छे कोच भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने यह विचार आज यहां अपने सरकारी आवास पर लक्ष्मण/रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार से सम्मानित खिलाडि़यों तथा स्पेशल ओलम्पिक वल्र्ड समर गेम्स यू0एस0ए0-2015 के पदक विजेता खिलाडि़यों के सम्मान में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि आज का दिन उत्तर प्रदेश के लिए बेहद खास है, क्योंकि राज्य के उत्कृष्ट खिलाडि़यों को लक्ष्मण पुरस्कार तथा रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है। इन होनहार खिलाडि़यों ने अपने बेहतरीन प्रदर्शन के जरिये देश-प्रदेश में ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व में भारत का मान-सम्मान बढ़ाया है। श्री यादव ने कहा कि आज का दिन इसलिए भी विशेष है, क्योंकि यह हाॅकी के जादूगर मेजर ध्यानचन्द का जन्मदिन है, जिनके सम्मान में इसे राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह गौरव की बात है कि वे उत्तर प्रदेश के ही निवासी थे। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार जहां एक ओर गांव, गरीब, नौजवान और किसान की बेहतरी के लिए तेजी से फैसले लेकर उन्हें लागू कर रही है, वहीं दूसरी ओर राज्य में शिक्षा के साथ-साथ खेल तथा खिलाडि़यों को बढ़ावा देने के लिए भी अनेक फैसलों पर अमल कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा दिए जाने वाले ‘यश भारती’ पुरस्कार से सबसे ज्यादा खिलाडि़यों को ही सम्मानित किया गया है। राज्य सरकार द्वारा खेलों को बढ़ावा देने के लिए किए जा रहे प्रयासों पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रीन पार्क, कानपुर में राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के क्रिकेट मैचों के आयोजन के लिए राज्य सरकार और यू0पी0सी0ए0 के बीच एक एम0ओ0यू0 किया गया है। इसके अलावा, लखनऊ में एक वल्र्ड क्लास क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण कराया जा रहा है। इसमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के मैच आयोजित कराने के लिए भी एम0ओ0यू0 किया जा चुका है। खिलाडि़यों को खेल के अवसर एवं प्रशिक्षण आदि की सुविधा प्रदान करने के लिए प्रदेश के विभिन्न जनपदों में स्टेडियम, बहुउद्देशीय हाॅल, स्विमिंग पूल, छात्रावास भवन, जूडो हाॅल, जिम्नेजियम हाॅल, वेटलिफ्टिंग हाॅल, एस्ट्रोटर्फ हाॅकी मैदान, स्पोट्र्स काॅम्प्लेक्स, मिनी स्टेडियम, डाॅरमेट्री, इंडोर वाॅलीबाॅल हाॅल, सिन्थेटिक बास्केट बाॅल कोर्ट निर्मित कराए जा रहे हैं। श्री यादव ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए छात्रावास भी संचालित किए जा रहे हैं, जिनमें खिलाडि़यों को गहन प्रशिक्षण, भोजन, शिक्षा, चिकित्सा, आवास, किट आदि सुविधाएं निःशुल्क प्रदान की जा रही हैं। यही नहीं, प्रदेश सरकार द्वारा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पदक विजेता खिलाडि़यों को प्रोत्साहित करने के लिए नकद पुरस्कार दिया जाता है। ओलम्पिक खेलों में पदक विजेता खिलाडि़यों को एकल वर्ग में स्वर्ण पदक प्राप्त करने पर 6 करोड़ रुपये, रजत पदक पर 4 करोड़ रुपये तथा कांस्य पदक प्राप्त करने वाले को 2 करोड़ रुपये दिया जाता है। इसके अलावा, टीम गेम्स में स्वर्ण पदक प्राप्त करने पर 3 करोड़ रुपये, रजत पदक पर 2 करोड़ रुपये तथा कांस्य पदक प्राप्त करने पर 1 करोड़ रुपये का पुरस्कार दिया जाता है। प्रतिभाग करने वाले खिलाडि़यों को प्रोत्साहन स्वरूप 10 लाख रुपये देने की व्यवस्था है। मुख्यमंत्री ने कहा कि एशियन गेम्स एवं काॅमनवेल्थ गेम्स में एकल वर्ग में स्वर्ण, रजत एवं कांस्य पदक प्राप्त करने पर क्रमशः 50 लाख रुपये, 30 लाख रुपये तथा 15 लाख रुपये का पुरस्कार तथा प्रतिभाग करने वाले खिलाडि़यों को 5 लाख रुपये की धनराशि प्रोत्साहन स्वरूप दिए जाने की व्यवस्था की गयी है। यही नहीं, राज्य सरकार द्वारा भूतपूर्व प्रसिद्ध खिलाडि़यों एवं पहलवानों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। खेल प्रतियोगिताओं के आयोजन के लिए क्रीड़ा संघों, क्लबों आदि को भी राज्य सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। खेल संघों द्वारा सामान्य वर्ग एवं विकलांग जन श्रेणी के खिलाडि़यों की राज्य, राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के आयोजन के लिए, वर्तमान सरकार द्वारा सरकारी स्टेडियम, कमरों तथा स्विमिंग पूल आदि की निःशुल्क व्यवस्था की जाती है। राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं से पूर्व संचालित होने वाले विशेष प्रशिक्षण शिविरों में खिलाडि़यों के डाइट मनी में समाजवादी सरकार ने दो-गुनी बढ़ोत्तरी की है। राज्य सरकार द्वारा राज्य स्तर के खिलाडि़यों को दी जा रही आर्थिक सहायता 2 हजार रुपये से बढ़ाकर 4 हजार रुपये प्रति माह कर दी गयी है। इसी प्रकार, राष्ट्रीय स्तर के खिलाडि़यों की आर्थिक सहायता की दर 3 हजार से बढ़ाकर 6 हजार रुपये प्रति माह कर दी गयी है, जबकि अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाडि़यों की आर्थिक सहायता 5 हजार रु0 से बढ़ाकर 10 हजार रु0 प्रति माह कर दी गयी है। इन श्रेणियों के पात्र खिलाडि़यों की आय सीमा की छूट 10 हजार रु0 से बढ़ाकर 20 हजार रु0 कर दी गयी है। इसके अलावा, अर्जुन पुरस्कार, द्रोणाचार्य पुरस्कार एवं खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित खिलाडि़यों को अथवा खेल जगत में उपलब्धियों के दृष्टिगत पद्मश्री एवं पद्म भूषण से सम्मानित खिलाडि़यों को 20 हजार रु0 प्रति माह की पेंशन उपलब्ध कराने का शासनादेश जारी कर दिया गया है। कार्यक्रम के दौरान जिन महिला खिलाडि़यों को रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार से सम्मानित किया गया, वे हैं – सुश्री सुधा सिंह एथलेटिक्स, सुश्री श्रद्धा दीक्षित (ताइक्वांडो), कुमारी रंजना गुप्ता (शूटिंग), कुमारी स्थवी अस्थाना (घुड़सवारी), कुमारी इंदु गुप्ता (हैंडबाल), कुमारी मेघा सारस्वत (साॅफ्ट टेनिस)। इन सभी खिलाडि़यों को वर्ष 2010-11, 2011-12, 2012-13 एवं 2013-14 के लिए सम्मानित किया गया, जबकि वेटरन वर्ग के लिए हाॅकी ओलम्पियन सुश्री रजि़या जै़दी को सम्मानित किया गया। इस सभी खिलाडि़यों को 50,000 रुपये नकद, रानी लक्ष्मीबाई की कांस्य प्रतिमा तथा प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया गया। इसी प्रकार, पुरुष वर्ग में जिन खिलाडि़यों को लक्ष्मण पुरस्कार से सम्मानित किया गया, वे हैं – श्री देवेश कुमार (जिम्नाॅस्टिक), श्री हिमांशु तिवारी (तैराकी), श्री चंद्रोदय नारायण (एथलेटिक्स), श्री रविकांत मिश्रा (टेनिस बाॅल क्रिकेट), श्री राम आसरे यादव (जूडो), श्री अनिरुद्ध सिंह (शूटिंग), श्री अतुल श्री पटेल (साॅफ्ट टेनिस), श्री तुषार खंडकर (हाॅकी) तथा श्री अजीत कुमार सिंह (शूटिंग)। इन सभी खिलाडि़यों को वर्ष 2010-11, 2011-12, 2012-13 एवं 2013-14 के लिए सम्मानित किया गया, जबकि वेटरन वर्ग के अन्तर्गत हाॅकी ओलम्पियनों श्री रवींद्र पाल सिंह, श्री एम0पी0 सिंह तथा श्री शकील अहमद खान और कुश्ती वेटरन श्री रामाश्रय यादव व श्री पन्ने लाल को सम्मानित किया गया। इस सभी खिलाडि़यों को 50,000 रुपये नकद, लक्ष्मण जी की कांस्य प्रतिमा तथा प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया गया। इसी प्रकार स्पेशल ओलम्पिक वल्र्ड समर गेम्स यू0एस0ए0-2015 के पदक विजेता खिलाडि़यों श्री प्रभरूप सिंह शेखाॅन (रोलर स्केटिंग) को स्वर्ण पदक जीतने पर 10 लाख रुपये, श्री पल्लव मेहरोत्रा (साॅफ्ट बाॅल) स्वर्ण पदक 10 लाख रुपये, श्री सोमांश शुक्ला (एथलेटिक्स) रजत पदक 5 लाख रुपये, श्री सतेन्द्र कुमार यादव (हैण्डबाॅल) रजत पदक 5 लाख रुपये तथा श्री अभियांश शुक्ला (साइक्लिंग) 2 लाख रुपये पुरस्कार स्वरूप प्रदान किए गए। कार्यक्रम को खेलकूद एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री श्री रामकरन आर्य तथा श्री फरीद महफूज किदवई, मेजर जनरल राजन बख्शी, प्रमुख सचिव खेल श्रीमती अनीता भटनागर जैन, हाॅकी ओलम्पियन श्री जगवीर सिंह ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर रानैतिक पेंशन मंत्री श्री राजेन्द्र चैधरी, प्रमुख सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल, सचिव मुख्यमंत्री श्री पार्थ सारथी सेन शर्मा, सचिव खेल श्री भुवनेश्वर कुमार, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी, बड़ी संख्या में खिलाड़ी तथा गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

Related Articles